Home नरेंद्र मोदी विशेष चुनाव में रेवड़ियां बांटने वालों का ट्रैक रिकॉर्ड देखिए, उनके झूठ का...

चुनाव में रेवड़ियां बांटने वालों का ट्रैक रिकॉर्ड देखिए, उनके झूठ का टेप रिकॉर्डर नहीं सुनिए: प्रधानमंत्री मोदी

552
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में रविवार को ‘मैं भी चौकीदार’ कार्यक्रम को संबोधित किया। प्रधानमंत्री मोदी ने इस मौके पर देशभर में 500 से ज्यादा शहरों में मौजूद देश के लाखों चौकीदारों से सीधा संवाद किया और सवालों के जवाब दिए। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि चुनाव में रेवड़ियां बांटने वालों का ट्रैक रिकॉर्ड देखिए, इनका टेप रिकॉर्डर मत सुनिए। उन्होंने कहा कि एक परिवार की चार पीढ़ियां गरीबी हटाने का नारा दे रही हैं, लेकिन इसके लिए कुछ किया नहीं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का झूठ बड़ा सीजनल होता है। जैसे पतंग और पटाखे का सीजन आता है, उसी प्रकार इसके नेता झूठ बदलते रहते हैं और उनका इकोसिस्टम इसे फैलाता रहता है। कभी असहिष्णुता तो कभी आरक्षण खत्म करने जैसा झूठ फैलाया जाता है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि पहली बार देश में डॉ. भीमराव अम्बेडकर का सबसे अधिक सम्मान हमारी सरकार ने किया है। हमारी सरकार ने ही ओबीसी कमीशन बनाकर, उसको संवैधानिक दर्जा दिया। समान्य वर्ग के गरीबों को 10 प्रतिशत आरक्षण का लाभ भी हमारी सरकार ने दिया। श्री मोदी ने कहा कि झूठ की उम्र ज्यादा नहीं होती है। इनके झूठ का जवाब आसान है। सिर्फ सच बताते चलो। सच की ताकत इतनी होती है कि झूठ कभी नहीं टिक पाएगा।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कुछ लोग ये मानकर के बैठे हैं कि ये देश, ये सरकार, ये राजघराना इनकी पैतृक संपत्ति है। पीढ़ी दर पीढ़ी इन्हें ही मिलना चाहिए। और एक चायवाला प्रधानमंत्री की कुर्सी पर बैठ गया, ये पचा नहीं पा रहे हैं। श्री मोदी ने कहा कि इनकी लूट बंद कर दी गई है, इसी वजह से ये लोग बौखला गए हैं। प्रधानमंत्री ने बताया कि अब तक देश में करीब 8 करोड़ लोग ऐसे पाए गए हैं जो फर्जी तरीके से सरकारी लाभ पा रहे थे। इन 8 करोड़ लोगों का कोई वजूद ही नहीं था। पहले करीब एक लाख करोड़ रुपया इसी में चोरी होता था। अब बिचौलिए खत्म कर दिए गए हैं, सरकारी रकम सीधे लाभार्थियों के खातों में जाती है। श्री मोदी ने कहा कि हमारे लिए डीबीटी का मतलब ‘डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर’ है जबकि उनके लिए डीबीटी का मतलब ‘डायरेक्ट बिचौलिया ट्रांसफर’ था।

कार्यक्रम की शुरुआत में श्री मोदी ने कहा, “चौकीदार न कोई व्यवस्था है, न यह किसी यूनिफॉर्म तक सीमित है, न कोई चौखट में बंधा हुआ है, बल्कि चौकीदार एक स्पिरिट है, एक भावना है।“ प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि ‘मैं भी चौकीदार’ महात्मा गांधी के ट्रस्ट्रीशिप के सिद्धांत पर आधारित है। प्रधानमंत्री ने कहा, “इसलिए यहां बैठा हुआ हर व्यक्ति, देश के कोने-कोने में बैठा हुआ व्यक्ति, जो गांव में है वो भी, जो शहर में है वो भी, जो पढ़ा-लिखा है वो भी, जो अनपढ़ है वो भी, जो पुरुष है वो भी, महिलाएं हैं वो भी, जो खेत में काम करता है वो भी, जो डॉक्टर है वो भी, जो शिक्षक है वो भी, समाज के लिए काम करने वाला हर कोई चौकीदार है।”

प्रधानमंत्री ने कहा कि अब हर शख्स चौकीदार है तो फिर चोर कहां बचेंगे? देश की जनता चौकीदार पसंद करती है। जनता को राजा महाराजाओं की जरूरत नहीं है, हुक्मदारों की जरूरत नहीं है। एक सवाल का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आपका चौकीदार आने वाले दिनों में देश को लूटने वालों के प्रति और ज्यादा कड़क बनेगा। 2014 में देशवासियों के वोट के कारण भ्रष्टाचार और लूट-खसोट करने वाले लोग जेल की चौखट पर पहुंच गए हैं और 2019 के बाद उन्हें जेल में पहुंचाना है। उन्होंने कहा कि अगले पांच वर्षों में भारत को 5 ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था के क्लब में ले जाना है। देश की शिक्षा को ग्लोबल बेंचमार्क तक ले जाना है। श्री मोदी ने कहा कि 2014 में जब सरकार बनी थी तो सिस्टम में इतने अधिक गड्डे थे कि पांच वर्ष उन्हें भरने में निकल गए। आने वाले 5 वर्ष अब भव्य इमारत बनाने में लगाना है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पिछले पांच वर्ष शौचालय, बिजली, पानी, सड़क, रेल, बस जैसी बुनियादी आवश्यकताओं को पूरा करने में बीत गए, वहीं अगले पांच वर्ष आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए हैं। श्री मोदी ने कहा, “2022 में आजादी के 75 वर्ष होंगे और मेरा सपना है कि तब तक हिंदुस्तान में एक भी परिवार ऐसा नहीं होगा, जिसके पास रहने के लिए पक्का घर न हो। 2022 में मेरा सपना है कि देश के किसान की आय दोगुनी हो। ऐसे अनेक सपने लेकर हम चले हैं और इन सपनों को पूरा करने के लिए आपका आशीर्वाद चाहिए।”

बालाकोट एयर स्ट्राइक से जुड़े एक सवाल के जवाब में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि सेना के सामर्थ्य और अनुशासन पर भरोसा होने की वजह से ही वह इतना बड़ा निर्णय ले पाए। उन्होंने कहा, “अगर मोदी अपने राजनीतिक भविष्य का सोचता, ऐसा होता तो ऐसा होता, तो मोदी नहीं होता। अगर यही राजनीतिक पैंतरेबाजी से देश चलाना होता, अपने हित और भलाई को लेकर निर्णय करने होते तो मोदी की देश को कोई जरूरत नहीं थी। मेरे लिए देश सबसे ऊपर होता है।”

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आतंकवाद से हम चालीस साल से पीड़ित हैं। कौन ये पाप करता है दुनिया को पता है, रिमोट कंट्रोल कहां है, सबको पता है, आतंक का आका कहां है सबको पता है। वे आएं और मार कर चले जाएं। हमारे सेना के जवान रोज लड़ रहे हैं, लेकिन ये कब तक चलेगा। और इसी के बाद तय किया गया कि अब जहां आंतक का कंट्रोल होगा, खेल वहीं खेला जाएगा। उन्होंने कहा कि बालाकोट की घटना के डेढ़ महीने गुजर जाने के बाद अब शायद पाकिस्तान ने एयर स्पेस खोलना शुरू किया है। पाकिस्तान ने बालाकोट की उस जगह को भी दुनिया से छिपा कर रखा है, पता चला है कि अब वहां पर बच्चों का स्कूल बनाया जा रहा है। पाकिस्तान में आतंकी कैंप चलते हैं इसका खुलासा हो गया है, लेकिन पाकिस्तान इसे दुनिया से छिपाने में लगा है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत के साथ आजाद हुए कई देश आज समृद्ध देशों में शामिल हैं। भारत के पास भी सबकुछ है, कोई कमी नहीं है। इच्छाशक्ति और सवा सौ करोड़ देशवासियों का सपना बनना चाहिए कि अब हमें पिछड़ा नहीं रहना है। उन्होंने कहा कि आज भारत का हर युवा चाहता है कि देश विकसित बने और उनको यह भी विश्वास है कि देश में एक ऐसी सरकार है, जो इस सपने को पूरा करेगी। श्री मोदी ने कहा कि बीते 5 सालों दुनिया में भारत की साख बढ़ी है। दुनिया में जो भी निर्णय हो रहे है, उनमें हमारी आवाज शामिल हो रही है। 2014 में भारत की अर्थव्यवस्था दुनिया में 11वें नंबर पर थी और आज भारत नंबर 6 पर आ गया है। भारत जल्द ही 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनने वाला है।

प्रधानमंत्री मोदी ने मिशन शक्ति का जिक्र करते हुए कहा कि देश के वैज्ञानिकों ने वो सिद्धि हासिल की है, जिस पर हर देशवासी को गर्व है। भारत आज अमेरिका, रूस और चीन के बात अंतरिक्ष में लाइव सैटेलाइट को मार गिराने की क्षमता रखने वाला चौथा राष्ट्र बन गया है। कार्यक्रम के अंत में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि चौकीदार स्पिरिट को हमें आगे बढ़ाना है, हर क्षेत्र में हर जिम्मेदारी को एक चौकीदार के नाते निभाना है। प्रधानमंत्री ने विश्वास जताया कि देशवासी एक मतदाता के रूप में भी एक मजबूत सरकार बनाने की चौकीदारी भी करेंगे।

Leave a Reply