Home समाचार पकौड़े के नाम पर मजाक उड़ाने वाले कांग्रेसियों के गाल पर यह...

पकौड़े के नाम पर मजाक उड़ाने वाले कांग्रेसियों के गाल पर यह तगड़ा तमाचा है…

227
SHARE
सौजन्य फाइल फोटो

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जब रोजगार को लेकर पकौड़े बेचने का उदाहरण दिया था तो कुछ लोगों जमकर मजाक उड़ाया था। विरोध के रूप में कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने सड़क पर पकौड़े की दुकान लगानी शुरू कर दी। यह खबर पकौड़े के नाम पर प्रधानमंत्री मोदी को कोसने वाले लोगों के गाल पर एक तमाचा है। लुधियाना के एक पकौड़े वाले ने इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के सामने 60 लाख रुपये के आमदनी की घोषणा की है।

पकौड़े बेचने को छोटा काम बताने वाले कांग्रेसी नेताओं को ये जानकर हैरानी होगी कि पकौड़ा विवाद के बाद इन लोगों की आमदनी बढ़ी है। एक मामले में इनकम टैक्स विभाग को जानकारी मिली कि लुधियाना के पन्ना सिंह पकौड़ेवाले ने टैक्स देने के नाम पर अपनी आमदनी कम दिखाई है। ऐसे में इनकी आमदनी का सही पता लगाने के लिए आयकर विभाग को छापा मारना पड़ा। छापे के बाद दुकानदार ने ज्यादा बिक्री होने की बाद स्वीकार की और इनकम टैक्स वालों के सामने 60 लाख रुपए सरेंडर कर दिए।

नवभारत टाइम्स की खबर के अनुसार दुकान से होने वाली दिनभर की आय की जानकारी के लिए एक अधिकारी को बिक्री पर नजर रखने के लिए लगाया गया। इसके बाद साल भर की टैक्स देनदारी का हिसाब लगाया गया। पन्ना सिंह पकौड़ेवाले की दुकान आसपास के इलाके में काफी मशहूर है और लोग पकौड़े-दही भल्ले यहां खाने के बाद अपने साथ पैक करा कर भी ले जाते हैं।

पकौड़े के नाम पर सड़क पर विरोध करने वाले कांग्रेसी नेताओं और कार्यकर्ताओं के लिए यह एक सबक भी है। कोई भी रोजगार छोटा-बड़ा नहीं होता और लगन हो तो कोई भी काम करके करोड़पति बना जा सकता है।

LEAVE A REPLY