Home विचार समय से पहले ही ‘हवा’ हो गई विपक्षी एकता की ताकत!

समय से पहले ही ‘हवा’ हो गई विपक्षी एकता की ताकत!

115
SHARE

बीते कुछ महीनों से मंदिर और मठों पर मत्था टेक रहे राहुल गांधी का नया अवतार दिल्ली के ताज होटल में दिखा। कांग्रेस पार्टी द्वारा दी गई इफ्तार पार्टी में उन्होंने मुस्लिम टोपी पहनी और फोटो भी खिंचवाए, लेकिन जिस विशेष मकसद से उन्होंने इफ्तार की दावत रखी वह पूरी नहीं हो पाई। दरअसल विपक्षी एकता की ताकत दिखाने के मकसद से दी गई कांग्रेस की इफ्तार पार्टी फ्लॉप रही है।

दिग्गज नेताओं की गैर मौजूदगी ने कांग्रेस को दिखाया आईना

राहुल गांधी के इफ्तार के लिए विपक्ष की टॉप लीडरशिप को न्योता भेजा गया था। कांग्रेस के सहयोगी दल इफ्तार में पहुंचे, लेकिन पार्टी की फर्स्ट लाइन लीडरशिप की बजाए सेकंड लाइन के नेताओं को भेजा गया। बड़ी बात ये रही कि इफ्तार पार्टी में कांग्रेस ने 18 राजनीतिक दलों को न्योता दिया। हालांकि, सिर्फ 10  दलों के नेताओं ने ही शिरकत की।  जाहिर है विपक्षी एकता के फ्रंट पर यह कांग्रेस के लिए बड़ा झटका है क्योंकि विपक्ष के दिग्गज नेताओं ने राहुल के इफ्तार से दूरी बनाए रखी।

सीपीएम के सीताराम येचुरी और जेएमएम के हेमंत सोरेन को छोड़ दिया जाए तो दूसरे दलों के पार्टी चीफ राहुल गांधी की इफ्तार पार्टी में नहीं पहुंचे। समाजवादी पार्टी की तरफ से कोई भी राहुल गांधी की इफ्तार पार्टी में शामिल नहीं हुआ। वहीं, बीएसपी चीफ मायावती खुद नहीं गई बल्कि राज्य सभा सांसद सतीश मिश्रा ने पार्टी का प्रतिनिधित्व किया।

तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष ममता बनर्जी और आरजेडी के तेजस्वी यादव और एनसीपी के शरद पवार भी नहीं गई। जबकि हाल में कांग्रेस के साथ रिश्ता जोड़ने वाली जेडीएस की तरफ से दानिश अली आए तो आरएलडी की ओर से न अजित सिंह आए न जयंत चौधरी बल्कि पार्टी ने मेराजुद्दीन अहमद को भेजा।

चंद्रबाबू नायडू-अखिलेश यादव को कांग्रेस का नेतृत्व मंजूर नहीं

राहुल गांधी की इफ्तार में शामिल नहीं होने वालों में चंद्रबाबू नायडू और अखिलेश यादव हैं। जाहिर है इससे सियासी मायने साफ हैं। दरअसल राहुल गांधी को अपना नेता मानने को कोई दल अभी तैयार नहीं है। 21 मई को जब कर्नाटक में कुमारस्वामी ने सीएम पद की शपथ ली थी, तब भी अखिलेश यादव और चंद्रबाबू नायडू ने इसका श्रेय कर्नाटक की जनता को दिया था, न कि कांग्रेस को। चंद्रबाबू नायडू ने तो पहले ही ये साफ कर दिया है कि वह कांग्रेस के नेतृत्व में किसी गठबंधन में शामिल नहीं होंगे।

13 जून को बयान अखिलेश यादव ने कहा,,” देश का अगला प्रधानमंत्री कौन बनेगा, इसमें हमारी पार्टी की महत्वपूर्ण भूमिका होगी। सपा कार्यकर्ता मिलकर देश का नया प्रधानमंत्री बनाएंगे।” जाहिर है अखिलेश का इस बयान के बड़े सियासी मायने हैं।

ममता बनर्जी को भी कांग्रेस का नेतृत्व मंजूर नहीं

पिछले महीने ही ममता बनर्जी ने कहा था, “कांग्रेस भाजपा के खिलाफ प्रस्तावित फेडरल फ्रंट में एक साझेदार के तौर पर हिस्सा बन सकती है मगर फ्रंट के नेता के तौर पर नहीं। कांग्रेस को फ्रंट के लिए यह बलिदान देना पड़ेगा। अगर वह ऐसा नहीं करती है तो खुद अपने रास्ते पर चल सकती है।”

मायावती की चुप्पी ने सबके उड़ाए होश 
इस इफ्तार की दावत में यूपीए का दम दिखेगा, वैसा कुछ नहीं हो पाया है। विशेषकर मायावती और अखिलेश यादव की गैरमौजूदगी यह बताने को काफी है कि अंदरखाने में काफी हलचल है। दरअसल  गोरखपुर, फूलपुर और कैराना लोकसभा उपचुनावों में मिली जीत ने प्रस्‍तावित महागठबंधन में तोलमोल का दौर शुरू हो गया है। बसपा सुप्रीमो मायावती की सुनियोजित चुप्‍पी ने कांग्रेस और सपा की नींद उड़ा रखी है।

दरअसल मायावती भी प्रधानमंत्री बनने का सपना देख रही हैं, ऐसे में वह अधिक से अधिक सीटें चाह रही हैं। समाजवादी पार्टी में भी मायावती के सामने छोटा दल बनने को लेकर बागी स्वर उठने लगे हैं। वहीं कांग्रेस पार्टी का भी पेंच फंसा हुआ है जो कम से कम 21 सीटों पर दावा ठोक रही है। जाहिर है विपक्षी एकता की दलील कागजों पर तो मजबूत दिख रही है, लेकिन जमीन पर इसमें बहुत पेंच फंसे हुए हैं।

LEAVE A REPLY