Home नोटबंदी नोटबंदी के बाद दिखने लगा है सकारात्मक असर… तेज हुई विकास की...

नोटबंदी के बाद दिखने लगा है सकारात्मक असर… तेज हुई विकास की रफ्तार

950
SHARE

नोटबंदी की घोषणा के बाद अब देश की अर्थ-व्यवस्था पर सकारात्मक असर दिखने लगा है। विकास की रफ्तार तेज हुई है। शहरों में मकानों की बिक्री का मामला हो या सकल घरेलू उत्पाद, पूंजी निवेश हो या फिर विदेशी पर्यटकों की संख्या, सभी में तेज वृद्धि देखने को मिल रही है। इसके साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को देश के लोगों का जोरदार समर्थन मिल रहा है।

शहरों में मकानों की खरीद में बढ़ोत्तरी
नरेंद्र मोदी सरकार 2022 तक सभी को घर देने के सपने को साकार करने के लिए दिलोजान से काम कर रही है। घर खरीदने का सपना पूरा करने के लिए केंद्र सरकार आपको सस्ता लोन दे रही है। केंद्र सरकार ने हाल ही में मिडिल क्लास को सस्ती दर पर होम लोन देने का एलान कर बड़ा तोहफा दिया। सरकार का यह तोहफा सालाना 18 लाख रुपए तक की आय वालों को मिलेगा। इस तोहफे के बाद देश के टॉप 8 शहरों में जनवरी से मार्च के दौरान मकानों की बिक्री 21 प्रतिशत बढ़ी है। कहा जा रहा था कि नोटबंदी का असर प्रॉपर्टी बाजार पर देखने को मिलेगा लेकिन सरकार के सकारात्मक कदम के बाद लोग अपने सपने के घर को खरीदने में लग गए हैं। अक्तूबर से दिसंबर की तिमाही में 50,788 यूनिट की तुलना में जनवरी से मार्च की तिमाही में 61,214 यूनिट मकानों की बिक्री हुई। दिल्ली एनसीआर में 14,983 यूनिट की बिक्री हुई।

जनता का सीधा समर्थन
नोटबंदी के बाद हुए हर चुनावों में भाजपा को प्रचंड जीत मिली है। उत्तरप्रदेश और उत्तराखंड विधानसभा चुनावों में भाजपा ने पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनायी। इसके साथ ही महाराष्ट्र, गुजरात, ओडिशा, चंडीगढ़ के स्थानीय चुनावों में भी भाजपा को भारी कामयाबी मिली है। इन चुनावों में विपक्षी दलों के जनता विरोधी निर्णय के आरोप की धज्जियां उड़ गईं।

उच्च विकास दर
नोटबंदी के बाद विकास दर में भी तेजी आई है। साल 2016-17 के आंकड़ों को देखें तो दिसम्बर के अंत तक तिमाही के लिए विकास दर 7.1 प्रतिशत रही। दुनिया भर की तमाम रेटिंग एजेंसियां भारत के बारे में सकारात्मक रिपोर्ट जारी कर रही हैं।

उच्चतम स्तर पर विदेशी पूंजी निवेश
देश की अर्थ-व्यवस्था पर निवेशकों का विश्वास और पक्का हुआ है। अप्रैल माह के लिए जारी Kearney Foreign Direct Investment (FDI) Confidence Index में भारत एक पायदान ऊपर चढ़कर आठवें स्थान पर पहुंच गया है। 2016-17 वित्तीय वर्ष में अप्रैल से दिसम्बर तक देश में विदेशी पूंजी निवेश उच्चत्तम स्तर पर रहा। यह 22 प्रतिशत बढ़कर 35.85 बिलियन अमेरिकी डॉलर हो गया।

महंगाई दर न्यूनत्तम स्तर पर
नोटबंदी के बाद महंगाई में भी कमी आने से आम लोगों को राहत मिली है। 2014 में जो महंगाई दर 11 प्रतिशत के आसपास थी वह आज 4 प्रतिशत के करीब थमी हुई है। अनाज, फल और सब्जी के दाम कम हुए हैं।

पर्यटकों के संख्या में वृध्दि
पिछले साल नवंबर में नोटबंदी की घोषणा के बाद से देश में पर्यटकों के आने की संख्या में बढ़ोत्तरी हुई है। पर्यटन मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार जनवरी 2017 में पिछले साल की तुलना में 16 प्रतिशत ज्यादा पर्यटक आए हैं। जनवरी 2017 में कुल 9.83 लाख पर्यटक आए।

इसके साथ ही आज डॉलर के मुकाबले रुपये की स्थिति काफी मजबूत है। अनाज का रिकॉर्ड उत्पादन होने से देश के किसानों के चेहरे पर भी मुस्कान है।

LEAVE A REPLY