Home समाचार सवा सौ करोड़ देशवासियों का आह्वान है न्यू इंडिया – प्रधानमंत्री

सवा सौ करोड़ देशवासियों का आह्वान है न्यू इंडिया – प्रधानमंत्री

460
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों से न्यू इंडिया के संकल्प को पूरा करने के लिए संकल्प लेने का आह्वान किया है। पीएम मोदी ने कहा कि बदलाव की चाहत और बदलाव का प्रयास ही न्यू इंडिया की नींव डालेगा। उन्होंने कहा, ”मैं आपको निमंत्रण देता हूं कि स्वराज से सुराज की इस यात्रा में हम सभी जीवन को अनुशासित कर, संकल्पबद्ध करके जुड़ें।”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज रविवार 26 मार्च को 30वें मन की बात कार्यक्रम के जरिये देश की जनता को संबोधित किया। सबसे पहले उन्होंने पड़ोसी देश बांग्लादेश को स्वतंत्रता दिवस पर शुभकामनाएं दीं और कहा कि दोनों देश अच्छे मित्र हैं। श्री मोदी ने 1917 में महात्मा गांधी द्वारा किए गए चंपारण सत्याग्रह को याद करते हुए कहा कि सार्वजनिक जीवन की शुरुआत कैसे की जा सकती है, ये हमें गांधी जी से सीखनी चाहिए। उन्होंने कहा कि ‘सर्वजन हिताय, सर्वजन सुखाय’ के मूलमंत्र को लेकर देश के लिए कुछ कर गुजरने का प्रयास ही आजादी के लिए मर मिटने वाले महापुरुषों के सपने को साकार करेगा। प्रधानमंत्री ने लोगों से अनाज की बर्बादी रोकने का आह्वान किया और डिप्रेसन से बचने की सलाह दी। 

स्वराज से सुराज की यात्रा से जुड़ें
पीएम मोदी ने कहा कि सभी देशवासी अगर संकल्प करें और मिलकर कदम उठाते चलें, तो न्यू इंडिया का सपना सच हो सकता है। उन्होंने कहा कि हर कोई अपने नागरिक धर्म और कर्तव्य का पालन करे, यही अपने आप में न्यू इंडिया की एक अच्छी शुरुआत हो सकती है। न्यू इंडिया न तो कोई सरकारी कार्यक्रम है, न ही किसी राजनैतिक दल का घोषणापत्र है और न ही ये कोई प्रोजेक्ट है। न्यू इंडिया सवा सौ करोड़ देशवासियों का आह्वान है। उन्होंने कहा, ‘मैं आपको निमंत्रण देता हूं कि स्वराज से सुराज की इस यात्रा में हम सभी जीवन को अनुशासित कर, संकल्पबद्ध करके जुड़ें। उन्होंने कहा कि इस संकल्प की शुरुआत हम सप्ताह में एक दिन डीजल या पेट्रोल का इस्तेमाल बंद करके भी कर सकते हैं।  

गांधी जी से सीखें
चंपारण सत्याग्रह को आजादी के आंदोलन का टर्निंग प्वाइंट बताया। उन्होंने कहा कि गांधी विचारशैली का प्रकट रूप पहली बार चंपारण सत्याग्रह में नजर आया था। उन्होंने कहा कि सार्वजनिक जीवन की शुरुआत कैसे की जा सकती है, स्वयं कितना परिश्रम करना होता है यह हम गांधीजी से सीख सकते हैं।

शहीदों की समाधि पर जाएं
प्रधानमंत्री ने अमर शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को श्रद्धांजलि देते हुए देश के युवाओं से अनुरोध किया कि वे समय निकालकर भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु की समाधि पर जरूर जाएं।

डिजिटल पेमेंट से कालेधन पर रोक
पीएम मोदी ने कालेधन के खिलाफ लड़ाई का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि काले धन के खिलाफ लड़ाई आगे बढ़ाने के लिए सवा सौ करोड़ देशवासी एक वर्ष में 2500 करोड़ डिजिटल लेन-देन करने का संकल्प करें। उन्होंने कहा कि देश का कोई भी नागरिक डिजिटल पेमेंट को अपनाकर काले धन और भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई का एक वीर सैनिक बन सकता है।

गंदगी के प्रति हो गुस्सा
प्रधानमंत्री ने देहरादून की ग्यारहवीं क्लास की एक बच्ची गायत्री का ऑडियो सुनाया जिसमें वो गंदगी के प्रति गुस्सा व्यक्त कर रही थी। पीएम मोदी ने कहा कि हमारे मन में गंदगी के प्रति अगर गुस्सा हो तो स्वच्छता आंदोलन सफल हो सकेगा। उन्होंने कहा कि स्वच्छता आंदोलन आदत बदलने का आंदोलन है। काम कठिन है लेकिन करना जरूरी है।

समाजद्रोह है अनाज की बर्बादी
पीएम मोदी ने ‘थोड़ा पेट खाली रखो, थोड़ा प्लेट खाली रखो’ का आह्वान करते हुए देश में अनाज की बर्बादी पर चिंता जताई। खास तौर पर जूठन में फूड वेस्टेज पर उन्होंने कहा कि सिर्फ जूठन में बर्बाद होने वाले अनाज से ही हम लाखों गरीबों का पेट भर सकते हैं। उन्होंने अनाज की बर्बादी को समाजद्रोह करार दिया और कहा कि ये गरीबों के प्रति अन्याय है।

एक्सप्रेसन से डिप्रेसन भगाएं
पीएम मोदी ने कहा कि दुनिया के 35 करोड़ से ज्यादा लोग डिप्रेशन यानी अवसाद से पीड़ित हैं। डिप्रेशन कई तरह की मानसिक और शारीरिक बीमारियों की वजह बन सकता है और यह क्षमताओं का विध्वंसक साबित हो सकता है। पीएम मोदी ने कहा कि ऐसे हालात में भारतीय संयुक्त परिवार का उदाहरण बहुत बढ़िया है। इसके साथ ही उन्होंने डिप्रेशन से बचने के लिए योग अपनाने की सलाह भी दी। पीएम मोदी ने अवसाद से पीड़ित लोगों के लिए कहा कि वे अगल-बगल के लोगों के प्रति सेवा भाव से जुड़ें तो उनका दुख कम हो जाएगा।

वर्किंग वीमेन को उपहार
प्रधानमंत्री ने हर क्षेत्र में महिलाओं की बढ़ती भागीदारी की सराहना की । उन्होंने कहा कि नवजात शिशु के साथ अन्याय न हो इसलिए प्रसूता के समय मेटरनिटी लीव 12 सप्ताह के बदले 26 महीने की गई है।

नववर्ष की शुभकामना
प्रधानमंत्री ने चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को हिंदू नववर्ष के आरंभ पर लोगों को शुभकामनाएं दीं और कहा कि भारत विविधताओं से भरा हुआ देश है। पीएम मोदी ने चैत्र प्रतिपदा को शुरू होने वाले महाराष्ट्र में गुड़ी-पड़वा, आंध्र-कर्नाटक में उगादी, सिन्धी चेटी-चांद, कश्मीरी नवरेह, अवध के क्षेत्र में संवत्सर पूजा, बिहार के मिथिला में जुड़-शीतल और मगध में सतुवानी की अग्रिम बधाई दी। 

LEAVE A REPLY