Home समाचार जन्मदिन पर पीएम मोदी को ‘नमो वन’ का तोहफा, आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति...

जन्मदिन पर पीएम मोदी को ‘नमो वन’ का तोहफा, आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति को मिलेगा बढ़ावा

322
SHARE

17 सितंबर को पूरा देश पीएम मोदी के जन्मदिन का जश्न मनाएगा और इस बात से पूरी दुनिया परिचित है कि पीएम मोदी हमेशा से ही नेचर के कितने करीब रहे हैं इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी पीएम नरेंद्र मोदी को उनके जन्मदिन पर एक खास तोहफा देना चाहती हैं। सुल्तानपुर जिले में 20 बीघे से अधिक जमीन पर देश का पहला नमो वन बनने जा रहा है। ये नमो वन आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति को भी बढ़ावा देगा। पीएम मोदी के जन्मदिन पर इस नमो वन में 10 हजार पौधे लगाए जाएंगे।

खास उद्देश्य के लिए बनाया जा रहा ‘नमो वन’

इस नमो वन को बनाने का एक विशेष उद्देश्य है, इस वन में ज्यादा से ज्यादा औषधीय, फलदार और छायादार पौधे लगाए जाने की योजना है। इसके साथ ही खत्म हो रहे जंगलों की वजह से अपना घर खो देने वाले जंगली जीवों को दोबारा रहने की जगह मिल सके और नेचर बैलेंस होने के अलावा लोगों को आयुर्वेदिक औषधियां भी मिल सकें। नमो वन में इस बात का विशेष ध्यान रखा जा रहा है कि यहां सभी प्रकार की दुर्लभ जड़ी-बूटियों वाले पौधे मौजूद रहें। नमो वन में पहले दिन 10 हजार पौधे लगाए जाएंगे, बाद में इनका क्षेत्र बढ़ाता रहेगा।

नमो वन में होगी इन खास औषधीय पौधों की भरमार

नमो वन को विशेष रूप से औषधीय पौधों के लिए बनाया जा रहा है। जहां अश्वगंधा, तुलसी, हरजोर, हल्दी, चंदन, कालमेघ, एलोवीरा, नागफनी, सर्पगंधा, चिरायता, सतावरी, सहजन, कंटकारी, अडूसा, शंखपुष्पी, आज्ञाघास, बकापन, अतिबला, आमाहल्दी, घृतकुमारी, महुआ, पीपल, अर्जुन, विजयसार, निर्गुण्डी, पुनर्नवा, अशोक जैसे औषधीय पेड़-पौधे लगाए जाएंगे।

पीएम मोदी के लिए सबसे बेहतर तोहफा

बीजेपी की सांसद मेनका गांधी ने कहा कि पर्यावरण से मेरा प्रेम बहुत पुराना है। पेड़-पौधों व जीव-जंतुओं का मूल्य किसी भी तरह इंसानों से कम नहीं है ये सभी को समझना होगा। जब धरती पर पेड़-पौधे व जीव-जंतु नहीं रहेंगे तो इंसानों का जीवन भी खतरे में पड़ जाएगा। पीएम मोदी भी पर्यावरण प्रेमी हैं और पर्यावरण संतुलन बनाने व ग्लोबल वार्मिंग रोकने को बेहद चितिंत व प्रयत्नशील हैं। इसलिए उनके जन्मदिन पर यह तोहफा देने का विचार आया।

Leave a Reply