Home चुनावी हलचल भारत की सांस्कृतिक और भाषाई विविधता के सबसे बड़े समर्थक हैं मोदी

भारत की सांस्कृतिक और भाषाई विविधता के सबसे बड़े समर्थक हैं मोदी

588
SHARE

तमिलनाडु में विपक्ष के नेता एम के स्टालिन ने मोदी सरकार पर हिंदी और संस्कृत भाषा को थोपने का आरोप लगाया है। स्टालिन के मुताबिक तमिल को दोयम दर्जे की भाषा बनाने का प्रयास किया जा रहा है। जबकि सच्चाई यह है कि खुद प्रधानमंत्री मोदी क्षेत्रीय भाषाओं को काफी महत्व देते है और हमेशा उसको बढ़ावा देने के लिए तत्पर रहते है।

पीएम मोदी का तमिल प्रेम – देखिए वीडियो

प्रधानमंत्री मोदी तमिल भाषा को कितना प्यार करते है और उसके प्रचार-प्रसार के लिए उनके मन में क्या भावना है, इस बात का पता इस वीडियो से चल जाएगा जिसमें खुद प्रधानमंत्री मोदी तमिल भाषा के प्रसार के तरीके बता रहे है। देखिये ये वीडियो।

कई बार कर चुक है पीएम तमिल प्रेम का इजहार

चेन्नई में राष्ट्रीय हथकरघा दिवस पर पीएम मोदी ने अपने संबोधन से पूर्व तमिल भाषा में ‘वणक्कम्’ कहकर लोगों का अभिवादन किया था यही नहीं उन्होंने कहा ‘तमिलनाडु वंददुकु मिघ मगिच्छी। मक्कल कानरदुक मिघ मगिच्छी। मतलब तमिलनाडु आकर बहुत खुशी मिली। यहां लोगों से मिलकर बहुत खुशी हुई।’ तमिलनाडू के नए साल की बधाई प्रधानमंत्री ने ट्वीट करके तमिल और इंग्लिश दोनों में दी।

मन की बात में कर चुके है तमिल भाषा पर बात

यही नहीं प्रधानमंत्री अपने ‘मन की बात’ के कार्यक्रम के दौरान भी तमिल भाषा समेत दूसरी क्षेत्रीय भाषाओं के विकास पर जोर दे चुके है। और सांस्कृतिक आदान-प्रदान के लिए राज्यों को समय-समय पर प्रोत्साहित करते रहते हैं। ताकि सभी को अपने देश की विविधता को जानने का मौका मिल सके।

10वें विश्व हिंदी सम्मेलन में भी किया था तमिल भाषा का जिक्र

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भोपाल में 10वें विश्व हिन्दी सम्मेलन में भारतीय भाषाओं के बीच समन्‍वय पर जोर देते हुए कहा कि क्या कभी हम हिंदी और तमिल भाषा की कार्यशाला करें और तमिल भाषा में जो अद्धभुत शब्द हो, उसको हम हिंदी भाषा का हिस्सा बना सकते हैं। क्या ये तमिल भाषा का प्रसार नहीं होगा।

स्टालिन भाषा विवाद पैदा करके राजनीतिक फायदा उठाना चाहते है।

1965 में हुए भाषाई विवाद के चलते ही कई मासूम लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा था शायद 50 साल पहले भड़की भाषा की उस आग को दोबारा भड़काकर स्टालिन राजनीति में अपना उल्लू सीधा करना चाहते है।

LEAVE A REPLY