Home समाचार मोदी सरकार का मिशन कश्मीर, 15 अगस्त को J&K के हर गांव...

मोदी सरकार का मिशन कश्मीर, 15 अगस्त को J&K के हर गांव में फहरेगा तिरंगा

419
SHARE

मोदी सरकार अपने मिशन कश्मीर पर डटी हुई है। मोदी सरकार ने इस बार जम्मू कश्मीर में 15 अगस्त पर आजादी के जश्न को ऐतिहासिक बनाने के लिए बड़ा फैसला किया है। मोदी सरकार ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर जम्मू कश्मीर के हर गांव में तिरंगा झंडा फहराने का फैसला लिया है, जिसके लिए सभी ग्राम प्रधानों को निर्देश जारी किया जा चुका है।

पार्टी ईकाई को भी दिए गए निर्देश 

बीजेपी ने राज्य के हर पंचायत की अपनी पार्टी ईकाई को ये निर्देश दिया है कि वे 15 अगस्त वाले दिन तिरंगा फहराएं। इसके साथ ही पार्टी पिछले साल यहां हुए पंचायत चुनावों को लोकतंत्र की मजबूती की तरह देखती है। वहीं बुधवार को मोदी कैबिनेट ने नौकरी और शिक्षा में आर्थिक आधार पर जम्मू-कश्मीर में 10 फीसदी आरक्षण को भी मंजूरी दे दी।

तिंरंगा फहराने में ना हो कोई दिक्कत

केंद्र सरकार ने पिछले हफ्ते जब घाटी में 10 हजार अतिरिक्त सुरक्षाबलों की तैनाती की, उसके बाद चर्चा शुरू हो गई है कि क्या मोदी सरकार जम्मू-कश्मीर से 35A को खत्म करने जा रही है। असल में सुरक्षाबल इसलिए तैनात किए गए हैं ताकि तिरंगा फहराने में कोई दिक्कत ना आए, साथ ही किसी अवांछित घटना को भी टाला जा सके। जब अमित शाह को गृह मंत्रालय की जिम्मेदारी मिली थी उस समय से ही ये चर्चा शुरू हो गई थी कि कश्मीर को लेकर कोई बड़ा निर्णय लिया जाएगा।

भाजपा फॉलो कर रही है मैनिफेस्टो 

भारतीय जनता पार्टी लंबे समय से अपने मैनिफेस्टो में जम्मू कश्मीर से धारा 370 और 35A हटाने की बात करती आई है, वह अब इस पर आगे बढ़ती हुई दिखाई दे रही है। पिछले काफी समय से सवाल उठ रहे हैं कि जब पूरा देश एक संविधान, एक प्रधानमंत्री, एक नागरिकता के दायरे में है तो जम्मू कश्मीर इससे अलग क्यों है।

जम्मू-कश्मीर में क्यो पनपा अलगाववाद और राष्ट्र विरोधी ताकतें

संघ विचारक अनिल सौमित्र ने जम्मू कश्मीर में हर गांव में तिरंगा फहराने के केंद्र की मोदी सरकार के निर्णय का स्वागत किया है।  उन्होंने कहा कि देश की स्वतंत्रता के बाद पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की गलत नीतियों और निजी स्वार्थ के चलते जम्मू कश्मीर पूरे भारत से अलग-थलग था और इसी वजह से जम्मू कश्मीर में अलगाववाद और राष्ट्र विरोधी ताकतें पनपने में सफल हो पाईं।

Leave a Reply