Home समाचार सोशल मीडिया सबसे बड़ी ताकत, मोदी से सीखे दुनिया: जुकरबर्ग

सोशल मीडिया सबसे बड़ी ताकत, मोदी से सीखे दुनिया: जुकरबर्ग

637
SHARE

सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक के संस्थापक और सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ की है। सोशल मीडिया को सबसे बड़ी ताकत बताते हुए उन्होंने फेसबुक के बारे में अपने विचार को साझा करते हुए लिखा है कि कैसे पूरे विश्व को एक कम्युनिटी बनाया जा सकता है। जुकरबर्ग ने फेसबुक टाइमलाइन पर बिल्डिंग ग्लोबल कम्युनिटी नाम से लिखे एक पत्र को पोस्ट के रूप में लोगों के सामने रखा है। जुकरबर्ग ने इस पोस्‍ट में बदलती दुनिया में सोशल मीडिया की भूमिका बताते हुए पीएम मोदी का उदाहरण दिया है।

उन्होंने सोशल मीडिया के जरिए जनता से लगातार संपर्क में बने रहने के लिए प्रधानमंत्री मोदी की प्रशंसा की है। उन्होंने कहा है कि मोदी सरकार ने यह बताया है कि सोशल मीडिया के जरिए सामाजिक रूप से जुड़ाव, जनता से सीधे संवाद और चुने गए नेताओं के प्रति जिम्‍मेदारी को कैसे स्‍थापित किया जा सकता है।

जुकरबर्ग ने अपने पत्र में लिखा है कि सिर्फ वोटिंग और चुनाव के समय लोगों से सोशल मीडिया से जुड़ने से बेहतर है कि लगातार उनसे जुड़े मुद्दे से जुड़कर रहा जाए। हम जनता और उनके चुने हुए प्रतिनिधि के साथ सीधा संवाद और जिम्मेदारी कायम रख सकते हैं। प्रधानमंत्री का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा है कि प्रधानमंत्री मोदी अपने मंत्रियों से बैठकों और सूचनाओं की जानकारी फेसबुक पर शेयर करने को कहते हैं जिससे कि जनता से डायरेक्ट फीडबैक मिल सके।

जुकरबर्ग ने लिखा है कि फेसबुक पर सबसे ज्यादा फॉलो किया जाने वाला और लोगों से जुड़ा रहने वाला व्यक्ति आसानी से चुनाव में जीत दर्ज करता है। इसके लिए उन्होने इंडिया और इंडोनेशिया का जिक्र किया है। करीब 6500 शब्‍दों की इस पोस्‍ट में उन्होंने दुनियाभर के लोगों के सोशल मीडिया के जरिए एक मंच पर आने के बारे में लिखा है। फेसबुक प्रमुख ने कहा है कि अब सोशल मीडिया के कारण लोग अमेरिका में होने वाले किसी कार्यक्रम पर भारत में भी कमेंट करते हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सितंबर 2015 में अपनी अमेरिकी यात्रा के दौरान सिलिकन वैली के कैलिफोर्निया में स्थित फेसबुक हेडक्वार्टर में मार्क जुकरबर्ग से मुलाकात कर चुके हैं। जुकरबर्ग भी भारत यात्रा के दौरान पीएम मोदी से मिल चुके हैं।

मार्क जुकरबर्ग का पोस्ट पढ़ने के लिए क्लिक करें-

बिल्डिंग ग्लोबल कम्युनिटी

LEAVE A REPLY