Home समाचार पीएम मोदी के नेतृत्व में देश में पुनर्जागरण का नया दौर-रामबहादुर राय

पीएम मोदी के नेतृत्व में देश में पुनर्जागरण का नया दौर-रामबहादुर राय

1984
SHARE

रेडियो पर अपने मन की बात के जरिये प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी ने पूरे देश को एकसूत्र में बांध दिया है। दिल्ली के इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र-IGNCA में ‘मन की बात- रेडियो पर सामाजिक क्रांति पुस्तक’ पर परिचर्चा में सभी वक्ता इस बात पर सहमत दिखे। वरिष्ठ पत्रकार और IGNCA के चेयरमैन रामबहादुर राय ने कहा कि देश में विवेकानंद की धारा से पुनर्जागरण का एक दौर शुरू हुआ था जिससे देश को आजादी मिली थी और अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में पुनर्जागरण का एक नया दौर है जो देश को एक नये सांचे में गढ़ने वाला साबित होगा। राम बहादुर राय ने कहा कि पीएम मोदी की मन की बात पर लिखी गई पुस्तक को पढ़ने के बाद उन्हें लगा कि IGNCA में इस पर परिचर्चा होनी चाहिए।

इस परिचर्चा को तीन हिस्सों में रखा गया था जिनमें तीन विषय ‘संस्कार और जागरूकता’, ‘देश और दिशा’ और ‘समाज और संदेश’ पर साहित्य, कला, शिक्षा, चिकित्सा और पत्रकारिता के क्षेत्र से जुड़ीं कई जानी-मानी हस्तियों ने अपनी-अपनी बातें रखीं।

मशहूर लोकगायिका और पद्मश्री मालिनी अवस्थी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मन की बात का असर कुछ ऐसा है जिसे घटते हुए अब देखा नहीं जा सकता है। उन्होंने कहा कि पारिवारिक और सामाजिक संस्कार को नये सिरे से स्थापित कर रही है पीएम मोदी के मन की बात। आज तक के एडिटर (स्पेशल प्रोजेक्ट्स) और सीनियर न्यूज एंकर सईद अंसारी ने परिचर्चा में हिस्सा लेते हुए कहा कि पीएम मोदी ने देश में संवादहीनता की खाई को भरा है। उन्होंने कहा कि पीएम ने आकाशवाणी को मन की बात के लिए इसलिए चुना क्योंकि वो बहुत दूरदर्शी हैं। सईद ने कहा कि सबसे बड़ी बात ये है कि समाज के आखिरी छोर पर बैठे व्यक्ति के जीवन में भी मन की बात से सकारात्मक परिवर्तन आ रहा है।

पहले सत्र में एम्स के पूर्व निदेशक तीरथ दास डोगरा ने मन की बात से जुड़ी पीएम की उस सलाह का जिक्र किया जो उन्होंने नशे की बुरी लत को लेकर दी थी। डोगरा ने कहा कि पीएम सामाजिक बुराई से जुड़े इस मुद्दे पर इस तरह से बात रखते हैं जैसे एक मनोवैज्ञानिक भी नहीं रख सकता।

 वहीं न्यूज 18 चैनल के डिप्टी मैनेजिंग एडिटर सुमित अवस्थी ने कहा कि पीएम के मन की बात की सबसे बड़ी विशेषता ये है कि इसने हमारी सांस्कारिक चेष्टा को जगाने का काम किया है। प्रख्यात शास्त्रीय नृत्यांगना और पद्मविभूषण सोनल मान सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारवासियों के अंदर स्वाभिमान को भरकर उनकी पीठ को सीधा करने का काम किया है। उन्होंने कहा कि मन की बात करते हुए पीएम मोदी एक भाई, मित्र, पिता और अभिभावक हर तरह की भूमिका में नजर आते हैं।

परिचर्चा के दूसरे सत्र में देश और दिशा पर अलग-अलग दिग्गजों ने अपनी बात रखी। एमएफटी के डायरेक्टर संदीप मारवाह मन की बात पर बात करते हुए काफी जोश में नजर आए और कहा कि पीएम मोदी से बिना मिले भी लोग उनसे चिट्ठी-पत्री और मेल के जरिये अपनी बातें शेयर कर सकते हैं और पीएम उस पर जिस तरह से रिस्पॉन्स लेते हैं उसकी दूसरी कोई मिसाल नहीं। उन्होंने कहा कि जिस तरह से स्वच्छता अभियान को पीएम मोदी ने पहली प्राथमिकता दी वो देश के लिए उनके संपूर्ण समर्पण के भाव को जाहिर करता है। मारवाह ने कहा कि मन की बात कई नेताओं के लिए तकलीफ की बात इसलिए बनी कि इसमें कोई राजनीति नहीं होती। वहीं सहारा आलमी चैनल के हेड लईक रिजवी ने कहा कि मन की बात वही कर सकता है जो सच्चा है।

एम्स से संबद्ध डॉ. प्रसून चटर्जी ने कहा कि मन की बात में जिस तरह स्वास्थ्य के मुद्दे पर भी प्रधानमंत्री सलाह लेकर आते हैं उससे पता चलता है कि कैसे देश की बेहतरी से जुड़े तमाम पहलुओ पर उनकी बारीक नजर है। उन्होंने कहा कि मेडिकल साइंस के मापदंडों पर भी उनकी सलाह हर तरह से खरी उतरती है, चाहे वो योग को लेकर भी सलाह क्यों ना हो।

दिल्ली यूनिवर्सिटी के पूर्व वाइस चांसलर और पद्मश्री दिनेश सिंह ने मन की बात में स्टार्टअप को लेकर पीएम मोदी के आह्वान का खास जिक्र किया। उन्होंने कहा कि अब समय आ गया है जब शिक्षण संस्थान औपचारिक डिग्री की पढ़ाई से आगे निकले और उस दिशा में बढ़े जहां सिर्फ नौकरी के लिए पढ़ाई पर जोर ना हो, बल्कि वैसी शिक्षण व्यवस्था भी हो जो व्यवसाय के लिए भी प्रेरित करे।

परिचर्चा के तीसरे और आखिरी सत्र में IGNOU के वाइस चांसलर प्रो. रविंद्र कुमार ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुआई में भारतीयता की पुनर्प्रतिष्ठा स्थापित होनी शुरू हुई है। उन्होंने मन की बात पर आई पुस्तक के कुछ उद्धरणों का हवाला देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री मोदी अनुभवजन्य मनोविज्ञान का सहारा लेकर जो बताते हैं उसका समाज के हर वर्ग पर गहरा असर होता है।

परिचर्चा में अपनी बात रखते हुए इडिया न्यूज के मैनेजिंग एडिटर राणा यशवंत ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बात लीक से हटकर है और इसलिए उसका लोग अनुकरण भी करते हैं। राणा यशवंत ने खादी फॉर फैशन की पीएम की अपील का जिक्र करते हुए कहा कि जिस तरह से मौजूदा प्रधानमंत्री ने इसके लिए अपनी बात रखी वो लोगों के अंदर तक उतर गई।

एनबीटी के चेयरमैन बलदेव भाई शर्मा ने कहा कि भारत के मन को पकड़ने का पहली बार किसी ने प्रयास किया है तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने। उन्होंने कहा इससे पहले राजनीति में बुद्धि के जोड़-घटाव की बातें तो खूब होती थीं..लेकिन मन की बात से परहेज किया जाता था।

IGNCA के सदस्य सचिव सच्चिदानंद जोशी ने कहा कि मन की बात पर आई किताब पीएम मोदी के मन की बात से जुड़े कई अनछुए पहलुओं को सामने लाती है। वहीं Bluekraft Digital Foundation के सीईओ अखिलेश मिश्रा ने उन पहलुओं का खास जिक्र किया, जिसके बाद पुस्तक छापने का निर्णय किया गया। उन्होंने कहा कि पीएम के मन की बात से कैसे लोगों पर एक गहरा प्रभाव होता है और स्वेच्छा के साथ शुरू हुआ कोई अभियान कैसे एक राष्ट्रीय आंदोलन में बदल जाता है, इसे बताने के लिए पुस्तक के प्रकाशन की उन्होंने जरूरत महसूस की।

परिचर्चा का संचालन वरिष्ठ पत्रकार और कई पुस्तकों के लेखक हरीश चंद्र बर्णवाल ने किया जिन्होंने प्रस्तावना रखते हुए कहा कि मन की बात रेडियो पर प्रसारित होने वाला एक ऐसा कार्यक्रम है जिसके बारे में देश के 90 प्रतिशत से ज्यादा लोग जानते हैं। उन्होंने पीएम के मन की बात को अपनी किताब मोदी सूत्र की उस लाइन के साथ जोड़ा कि ये अंधेरे में चलते इंसान के लिए एक मशाल है।

इस पुस्तक की प्रस्तावना जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे द्वारा लिखी गई है। लोगों में मन की बात को लेकर कुछ स्वाभाविक जिज्ञासाएं रही हैं…जैसे कैसे प्रधानमंत्री को इसका आइडिया आया, कैसे इसका नाम तय हुआ, यह कैसे तय हुआ कि यह कार्यक्रम कितने अंतराल पर होना चाहिए, इसकी रूपरेखा क्या हो? लोगों की ऐसी ही कई जिज्ञासाओं को ध्यान में रखते हुए ‘मन की बात – रेडियो पर सामाजिक क्रांति’ पुस्तक लिखी गई है। ब्लूक्राफ्ट डिजिटल फाउंडेशन द्वारा लिखी गई इस पुस्तक को LexisNexis ने प्रकाशित किया है।

Leave a Reply