Home विचार राहुल गांधी के निर्देश पर ‘हिंदुत्व’ के विरोध में खुलकर सामने...

राहुल गांधी के निर्देश पर ‘हिंदुत्व’ के विरोध में खुलकर सामने आई कांग्रेस

434
SHARE

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा है कि ‘हिंदुत्व’ पर सर्वोच्च न्यायालय का फैसला ठीक नहीं है और वह इसे बदले। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार 25 सितंबर को एबी बर्धन स्मृति व्याख्यान में उन्होंने जिस आदेशात्मक लहजे में यह बात कही, वह एक स्वतंत्र न्यायिक व्यवस्था के लिए चिंता की बात तो है ही, साथ ही बड़ी चेतावनी भी है।

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस जेएस वर्मा की बेंच ने 1995 में दिए अपने फैसले में कहा था कि ‘हिंदुत्व’ एक जीवन शैली है, कोई धर्म नहीं। 25 अक्टूबर, 2016 को सुप्रीम कोर्ट के 7 जजों की संवैधानिक बेंच ने तीस्ता सीतलवाड़ की समीक्षा याचिका पर सुनवाई के दौरान भी यह साफ कर दिया था कि वह ‘हिंदुत्व’ शब्द की दोबारा व्याख्या नहीं करेगा। बावजूद इसके अगर देश के पूर्व प्रधानमंत्री ऐसा बयान देते हैं तो जाहिर है कि यह कांग्रेस की सोची-समझी रणनीति का हिस्सा है।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री के पद पर रहते हुए भी मनमोहन सिंह ने सोनिया गांधी के कहने पर 2006 में कहा था कि – ”देश के संसाधनों पर मुस्लिमों का पहला हक है।” माना जा रहा है कि मनमोहन सिंह ने ये बयान राहुल गांधी के कहने पर दिया गया है। दरअसल कांग्रेस अध्यक्ष खुद को शिव भक्त दिखा कर हिंदुओं को विभाजित करने की नीति के साथ मुस्लिमों के वोट पक्की करना चाहते हैं।

बहरहाल मनमोहन सिंह के बयान से एक बार फिर स्पष्ट हो गया है कि कांग्रेस के डीएनए में ही हिंदू विरोध है। दूसरा ये कि 28 सितंबर को श्री राम जन्मभूमि पर आने वाले फैसले से पहले वे न्यायपालिका पर दबाव बनाना चाहती है ताकि किसी भी तरह से फैसला हिंदुओं के हक में न आ पाए।

कांग्रेस के DNA में हिंदू विरोध

2017
सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर की सुनवाई टालने का दबाव बनाया
2016
भगवान राम की तुलना तीन तलाक और हलाला से की
2013
मुजफ्फरनगर में दंगा पीड़ित हिंदुओं से राहुल गांधी नहीं मिले
2010
राहुल गांधी ने कहा कि मुसलमानों से नहीं हिंदुओं से खतरा
2008
सुप्रीम कोर्ट से कहा कि राम सेतु का अस्तित्व ही नहीं
2007
मुस्लिम आतंकियों को छोड़ा, ‘भगवा आतंकवाद’ की थ्योरी गढ़ी
2004
सोनिया गांधी ने शंकराचार्य जयेंद्र सरस्वती को गिरफ्तार करवाया
1975
इंदिरा गांधी ने हिंदुओं के विरुद्ध नसबंदी अभियान चलाया
1951
पंडित नेहरू ने डॉ राजेंद्र प्रसाद को सोमनाथ मंदिर जाने से रोका
1947
पंडित नेहरू ने सोमनाथ मंदिर के पुनर्निर्माण विरोध किया

LEAVE A REPLY