Home विचार लव जिहाद-देश की सुरक्षा में सेंध

लव जिहाद-देश की सुरक्षा में सेंध

274
SHARE

प्यार दो दिलों का पवित्र एहसास है, लेकिन इस पवित्र भावना को भी नापाक इरादों ने अपवित्र कर दिया है। केरल में एक मुस्लिम लड़के से एक हिंदू लड़की के निकाह काे समाज ने सिर्फ इस नजर से देखा कि दोनों को एक-दूसरे से प्यार है, लेकिन इस प्यार के पीछे एक गहरी साजिश थी, जिसका पर्दाफाश करने के लिए, देश के सर्वोच्च न्यायालय ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी को 16 अगस्त को आदेश दे दिया।

लव- क्यों एक साजिश है

राष्ट्रीय जांच एजेंसी की प्रारंभिक जांच में पता चलता है कि केरल में ऐसा यह अकेला मामला नहीं है, बल्कि अब तक 105 ऐसे मामले सामने आ चुके हैं। पड़ताल में खुलासा हुआ है कि इस नापाक साजिश को केरल के इस्लामिक संगठन- पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया, सोशल डेमोक्रेटिक फ्रंट ऑफ इंडिया, सत्य शारिणी और मुस्लिम एकोपना समिति अंजाम देते रहे हैं।

ये संगठन भावनात्मक रुप से कमजोर हिन्दू लड़कियों को समझाने-बुझाने से लेकर, शरण देने तक और उसके बाद निकाह कराने तक हर स्थिति में उनके साथ खड़े रहने में अहम भूमिका निभाते हैं। इसे ये लव जिहाद कहते हैं, क्योंकि यह इस्लाम धर्म के प्रसार का इनका अपना तरीका है। इन संगठनों ने एक हिन्दू लड़की अखीला अशोकन के निकाह को सही ठहराने के लिए केरल उच्च न्यायालय से उच्चत्तम न्यायालय तक वकीलों की फौज खड़ी कर दी। इसमें कांग्रेस के दिग्गज नेता और नामी वकील कपिल सिब्बल के साथ इंदिरा जयसिंह भी शामिल थीं। यही नहीं जब न्यायालय ने इनके खिलाफ फैसला देते हुए निकाह को अवैध घोषित कर दिया तो न्यायालय के खिलाफ ये संगठन सड़क पर उतर आये।

 


लव जिहाद- लड़की को परिवार से दूर करना
अखीला अशोकन केरल के कोट्टयम जिले के वैककोम की है। वह सलेम के कॉलेज से होम्योपैथिक व सर्जरी की पढ़ाई करती थी, इसलिए वह कोट्टयम से सलेम आकर रहने लगी। वह सलेम में अपने कॉलेज के ही दोस्तों, फसीना और जसीना के साथ रहती थी। अचानक 6 जनवरी, 2016 को अखीला के माता-पिता को जानकारी मिली कि कुछ दिनों से उनकी बेटी का कोई अता-पता नहीं है। काफी खोजबीन के बाद भी जब अखीला के मां-बाप को अपनी बेटी के बारे में कोई सुराग नहीं मिला तो उन्होंने पुलिस में उसके गायब होने की रिपोर्ट दर्ज करवा दी। रिपोर्ट में आरोप लगाया गया कि उसके दोस्त फसीना, जसीना और उनके पिता अबूबकर ने अखीला को गायब कर दिया है। पुलिस की छानबीन में भी जब अखीला का कोई सुराग नहीं मिला तो अखीला के मां-बाप ने केरल उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया और अपील की कि पुलिस को अखीला को कोर्ट में पेश करने का आदेश दिया जाए। उच्च न्यायालय के आदेश पर केरल पुलिस ने 19 जनवरी, 2016  को अखीला को कोर्ट में पेश कर दिया। 

लव जिहाद-  लड़की का ब्रेनवाश करना

अखीला ने उच्च न्यायालय को बताया कि वह अपनी मर्जी से घर छोड़कर गई है, क्योंकि 2 जनवरी, 2016 को उसके पिताजी ने उसे घर पर नमाज पढ़ते हुए देखकर दोबारा ऐसा ना करने की सख्त हिदायत दी थी, इसलिए वह घर छोड़कर अपने दोस्तों जसीना और फसीना के घर, कोजीकोड चली गई थी। अखीला ने कोर्ट को यह भी बताया कि उसने अपने दोस्तों से ही प्रभावित होकर इस्लाम धर्म कबूल किया है। कोजीकोड में अबूबकर ने उसका एडमिशन थैरबेतुल इस्लाम सभा में करा दिया, ताकि उसे इस्लाम के बारे में बेहतर जानकारी मिल सके। एडमिशन कराने के बाद, एक दूसरी संस्था सत्यशारिणी ने अखीला के रहने आदि की व्यवस्था की जिम्मेदारी ले ली। सत्यशारिणी की समाजसेविका सैनिबा अखीला के साथ रहने लगी। 7 जनवरी, 2016 से अखीला सैनिबा की देख-रेख में ही रह रही है।

लव जिहाद- लड़की के संवैधानिक अधिकारों का सहारा लेना

अखीला के इस बयान पर कोर्ट ने उसके स्वतंत्रता के अधिकार की रक्षा करते हुए 19 जनवरी, 2016 को आदेश दिया कि वह अपनी मर्जी से कहीं भी रह सकती है और उन्होंने अखीला के मां-बाप की इस दलील को मानने से इंकार कर दिया कि उसके साथ इस्लाम धर्म अपनाने के लिए जबरदस्ती की गई थी।

अगस्त 2016 में अखीला के मां-बाप एक बार फिर उच्च न्यायालय में अपील करते हैं कि उनकी बेटी को विदेश ले जाए जाने से रोका जाए। इस पर कोर्ट ने पुलिस को आदेश दिया कि अखीला पर नजर रखी जाए, ताकि वह देश से बाहर न जा सके. पुलिस ने अखीला और सैनिबा पर निगरानी रखनी शुरु कर दी। एक दिन सैनिबा, अखीला को लेकर पुलिस की नजरों के सामने से ही गायब हो गई। कई दिनों बाद उसने कोर्ट में अपील की कि पुलिस की निगरानी को हटा दिया जाए, क्योंकि उन्हें सामान्य जीवन जीने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। 19 दिसम्बर, 2016 को कोर्ट में सुनवाई के दौरान, न्यायाधीश ने अखीला को निर्देश दिया कि वह हॉस्टल में रहकर अपनी आगे की पढ़ाई जारी रखे। कोर्ट के इस निर्णय को मानने के लिए अखीला तैयार हो गई। कोर्ट ने अखीला के मां-बाप को आदेश दिया कि 21 दिसम्बर को अखीला के सभी शैक्षिक प्रमाणपत्र कोर्ट के सामने ही अखीला को वापस सौंप दिए जाएं। अगली तारीख यानी 21 दिसम्बर को अखीला कोर्ट में अपने पति के साथ आई और उसने कोर्ट को अपने पति शफीन जहां के बारे में बताया।

लव जिहाद- मुस्लिम लड़के से हिन्दू लड़की का निकाह

वकील ने कोर्ट को बताया कि अखीला का निकाह सैनिबा के घर पर पुथुर जामा मस्जिद के काजी ने करवाया। निकाह की बात सुनकर कोर्ट को हैरानी हुई। कोर्ट ने पूरे मामले पर एक लंबी सुनवाई की, जिसमें पुलिस रिपोर्ट और सरकारी वकील की दलीलें सुनने के बाद, कोर्ट ने इस निकाह को मई 2017 में अवैध करार दे दिया। इसके बाद से यह मामला सर्वोच्च न्यायालय के सामने पहुंचा, जिस पर न्यायालय ने एनआईए को जांच के आदेश दिए हैं।

लव जिहाद – साजिश के आतंकी

एनआईए की पड़ताल में यह बात सामने आई कि सैनिबा इससे पहले भी पलक्कड़ की एक हिन्दू लड़की अथिरिया का जबरदस्ती धर्मांतरण करवा चुकी है। सैनिबा के गैंग के सभी व्यक्ति किसी न किसी  इस्लामिक संगठन से जुड़े हुए हैं। सैनिबा पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया की महिला शाखा नेशनल वूमेन फ्रंट की अध्यक्ष है। उसने अपने पति अलियर और सत्यशारिणी के कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर अखीला की शादी वैसे ही करवाई, जैसे अथिरिया की करवाई थी।

अखीला और अथीरिया के निकाह में सैनिबा के अतिरिक्त एक और व्यक्ति की कड़ी जुड़ती है, वह है- मोहम्मद कुट्टी। मोहम्मद कुट्टी पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया का कार्यकर्ता है, जो सैनिबा और उसके पति अलियर के साथ अबुबकर के घर से अखीला को लेकर गया था। पुलिस की फाइलों में मोहम्मद कुट्टी और सैनिबा दोनों ही पलक्कड़ की अथिरिया के धर्मांतरण के मामले में आरोपी हैं।

अखीला के पति शफीन जहां के बारे में एनआई की पड़ताल  बताती है कि वह पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया की राजनीतिक शाखा सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया का कार्यकर्ता है। वह कोल्लम में रहता है। अखीला से निकाह करके वह अपनी मां के पास दुबई जाना चाहता था। एजेंसी ने उसके खिलाफ चार आपराधिक मामले भी दर्ज पाए हैं। शाहीन का संबंध आईएस के हिन्दुस्तानी माड्यूल ओमर अल हिन्दी के मंसीद मुहम्मद से है, जिस पर एनआईए तहकीकात करके आरोपपत्र पहले ही कोर्ट में दे चुकी है।

सैनिबा ने पीएफआई के 11 कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर मई 2016 में अथिरिया का धर्मांतरण कराया था। सैनिबा ने  इस्लाम धर्म कबूल करने के लिए पहले अथिरिया को समझाया-बुझाया था और उसे भी एक मुस्लिम लड़के से निकाह करने के लिए सलाह दी थी। सैनिबा जिस तरह अखीला को निकाह से पहले अलग-अलग स्थानों पर लेकर जा रही थी, ठीक उसी तरह अथिरिया के साथ भी निकाह से पहले अलग-अलग स्थानों पर गई थी।

केरल के मुख्यमंत्री अच्युतानंदन का 2010 में सनसनीखेज बयान-

7 अगस्त, 2010 को केरल की वामपंथी सरकार के मुखिया वी. एस. अच्युतानंदन ने दिल्ली में मीडिया से कहा था कि अगले 20 सालों में इस संगठन के लोग केरल को मुस्लिम बहुल राज्य में बदल देंगे। इसके लिए वे हर प्रकार के तौर-तरीकों का इस्तेमाल कर रहे हैं। यहां तक कि अपनी आबादी बढ़ाने के लिए वे दूसरे धर्मों की लड़कियों से शादी कर रहे हैं। उन्होंने प्रेस से कुछ ऐसा कहा था- “They want to turn Kerala into a Muslim-majority state in 20 years. They are using money and other inducements to convert people to Islam. They even marry women from outside their community in order to increase the Muslim population.”
“I was speaking of the Muslim extremist groups in the state and not the Muslim community in general. My information is from the various documents seized from the premises of those arrested in connection with terror incidents in the state,” he said

देश में धर्मांतरण कराने के लिए लव जिहाद के हथकंडे को इस्लामिक संगठन सालों से इस्तेमाल करते रहे हैं, लेकिन पूर्व की कांग्रेस सरकार ने अपने राजनीतिक लाभ के लिए इस राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर कभी कोई ध्यान नहीं दिया। अब सर्वोच्च न्यायालय के निर्देश पर एनआईए की जांच से इस रहस्य का पर्दा धीरे-धीरे उठ रहा है।

 

 

 

LEAVE A REPLY