Home बिहार विशेष जनता के साथ किये पापों को धोना चाहते हैं लालू ! पूरा...

जनता के साथ किये पापों को धोना चाहते हैं लालू ! पूरा परिवार पूजा-पाठ में व्यस्त

193
SHARE

भ्रष्टाचार के अनगिनत मामलों में घिरा लालू यादव का परिवार अब देवी-देवताओं को प्रसन्न करने में जुटा हुआ है। नित्य नये पूजन का आयोजन हो रहा है। ईश्वर से सारे पापों को धोने की प्रार्थना की जा रही है। सावन का पवित्र महीना चल रहा है इसीलिए भगवान भोले शंकर का प्रसन्न करने के लिये पूजा का कई दौर पूरा हो चुका है। अब भगवान विष्णु से आशीर्वाद प्राप्त करने के लिये अखंड कीर्तन का आयोजन भी किया जा रहा है। पूजा तो कई तरह से की जा रही है, लेकिन प्रार्थना शायद एक ही है, हे भगवन! जनता को लूटने के लिये क्षमा करें।

लालू- राबड़ी ने किया रुद्राभिषेक
आरजेडी प्रमुख लालू यादव का पूरा परिवार इस समय भ्रष्टाचार और घोटाले के मामलों में फंसा हुआ है। लालू यादव पहले ही सजायाफ्ता हैं। इसीलिए उन्हें डर सता रहा है कि कहीं पूरा परिवार ही एक दिन सजायाफ्ता न बन जाए। इसीलिए लालू के पूरे परिवार ने महादेव को प्रसन्न करने के लिये पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के सरकारी आवास पटना के सर्कुलर रोड पर पवित्र ‘रुद्राभिषेक’ पूजा का आयोजन कराया। सावन के पवित्र सोमवार को आयोजित इस पूजन में लालू परिवार के अधिकतर सदस्य शामिल हुए।

भगवान विष्णु के शरण में तेज प्रताप
राबड़ी के आवास पर पवित्र ‘रुद्राभिषेक’ पूजा के एक दिन बाद लालू-राबड़ी के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव ने अपने सरकारी आवास पटना के 3, देशराज मार्ग पर 24 घंटे का अष्टयाम कीर्तन आयोजित कराया। यह कीर्तन भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के लिये किया गया। इसमें कई कीर्तन मंडलियों ने हारमोनियम और ढोल बाजे के साथ हरे रामा-हरे कृष्णा का जाप किया। यहां ये भी जान लीजिए कि अपने इसी आवास पर वास्तु दोष मिटाने के चक्कर में बिहार के स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप हाल ही में बंगले के गेट का रुख भी बदल चुके हैं।

तेजस्वी ने किया रुद्राभिषेक
इससे पहले लालू के छोटे बेटे और बिहार के उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव भी रुद्राभिषेक पूजा कर चुके हैं। उन्होंने 17 जून को पटना से 15 किलोमीटर दूर सोनपुर के हरिहरनाथ मंदिर में भगवान शिव की आराधना के लिए ये पूजा किया। दरअसल अब लालू परिवार का तात्कालिक संकट इन्हीं को लेकर है, जिन्हें नीतीश सरकार से हटाये जाने की चर्चा है।

तेजप्रताप ने भी किया रुद्राभिषक
तेजस्वी के एक दिन बाद उसी हरिहरनाथ मंदिर में उनके बड़ा भाई तेजप्रताप भी पहुंचे। उन्होंने भी भगवान भोले शंकर को प्रसन्न करने के लिए रुद्राभिषेक की पूजा की। वैसे तेजप्रताप के लिए ऐसा अनुष्ठान नया नहीं है, लेकिन जब से परिवार संकटों से घिरा है उनकी धार्मिक गतिविधियां ज्यादा बढ़ गई हैं।

दुष्टनाषक यज्ञ कर चुके हैं तेजप्रताप
करीब एक महीने पहले की बात है बिहार के स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप परिवार पर आये संकटों से छुटकारा पाने के लिये दुष्टनाशक यज्ञ का भी आयोजन करा चुके हैं। दरअसल बीजेपी नेता सुशील कुमार मोदी की ओर से लगे भ्रष्टाचार के आरोपों ने उन्हें बहुत परेशान कर दिया था और उन्होंने आनन-फानन में भगवान के शरण में जाने का फैसला किया था।

भगवान कृष्ण के भक्त रहे हैं तेजप्रताप
पूरे परिवार के भ्रष्टाचार के आरोपों में घिरने के बाद तेजप्रताप ने सभी देवों की आराधना शुरू कर दी है। कभी वो भगवान शंकर को प्रसन्न करने की कोशिश करते हैं, कभी भगवान विष्णु से चमत्कार की याचना करते हैं। परिवार के भ्रष्टाचारों की पोल खोलने वालों के नाश के लिये दुष्टनाशक यज्ञ भी वो करा चुके हैं। लेकिन भ्रष्टाचार के आरोपों पर हंगामा शुरू होने से पहले तक वो अधिकतर समय भगवान कृष्ण की भक्ति करते दिखाई देते थे। यूं समझ लीजिए कि पूरा परिवार अभी किसी भी भगवान की याचना के लिए तैयार है बस उन्हें उनके पापों से छुटकारा मिल जाय।

लालू को लगा ‘पगला बाबा’ का श्राप ?
मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार उत्तर प्रदेश में मिर्जापुर के एक तांत्रिक ने उन्हें मिट्टी में मिल जाने का श्राप दिया था। विभूति नारायण उर्फ ‘पगला बाबा’ नाम के वो बाबा लालू के गुरु रहे हैं और कई मौकों पर उन्होंने लालू के लिए तंत्र साधना की है, जिसका लालू यादव को बहुत लाभ भी मिला है। लेकिन एकबार लालू की कोई बात बाबा को बहुत खटक गई और उन्होंने कह दिया कि,”लालू तुझे घमंड है कि तू बहुत बड़ा पुरोधा है। तू मिट्टी में मिल जाएगा।”

कहा जाता है कि लालू यादव ने घोटाला और भ्रष्टाचार करके देश की जनता का खजाना लूट लिया है। जनता के पैसों से उन्होंने अकूत संपत्ति बनाई है। लेकिन अब पापों से भरे अपने घरे को मिटाने के लिये वो भगवत भजन कर रहे हैं। शायद उन्हें उम्मीद है कि इस प्रसन्न होकर भगवान उन्हें क्षमा कर देंगे। अलबत्ता अभी भी उनके व्यवहार में पश्चाताप जैसी कोई भावना नहीं है। वो डंके की चोट पर अपनी करतूतों को जारी रखने पर भी अडिग हैं।

LEAVE A REPLY