Home केजरीवाल विशेष देश की साख और धाक को नुकसान पहुंचा रही केजरीवाल एंड कम्पनी

देश की साख और धाक को नुकसान पहुंचा रही केजरीवाल एंड कम्पनी

162
SHARE

15 फरवरी, 2017 को भारत ने 104 सैटेलाइट छोड़ कर वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया था। भारतीय वैज्ञानिकों और तकनीशियनों ने देश के नाम को ऊंचे मुकाम पर पहुंचाया और दुनिया में भारत की धाक जमा दी। देश का नाम बढ़ा, साख बढ़ी तो कमाई भी बढ़ गई। साल 2017 में इसरो ने करीब 300 करोड़ रुपये की कमाई की थी। हालांकि देश विरोधी ताकतें लगातार देश का नाम और काम दोनों ही खराब करने की साजिश रच रही हैं।

गौरतलब है कि दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल अपने एक मंत्री सौरभ भारद्वाज को बोत्सवाना भेज रहे हैं। वे वहां के सर्वोच्च न्यायालय में यह बताने जा रहे हैं कि भारत सरकार झूठी है और   भारत का चुनाव आयोग फर्जी मतदान करवाता है क्योंकि ईवीएम में गड़बड़ी है।

दरअसल आप के नेता देश की छवि को लगातार नुकसान पहुंचा रहे हैं। पहले ही पार्टी नेताओं ने बोत्सवाना जाकर वहां के विपक्षी नेताओं को बताया कि ईवीएम में गड़बड़ी हो सकती है। परिणामस्वरूप अफ्रिकन चुनाव आयोग ने भारत के 38000 ईवीएम का आर्डर ही रद्द कर दिया। ये वही सौरभ भारद्वाज हैं जिन्हें चुनाव आयोग ने चुनौती दी थी कि ईवीएम की खराबी साबित करे, लेकिन वे भाग खड़े हुए थे। 

जाहिर है देश का बड़ा आर्थिक नुकसान हुआ और साथ साख पर भी सवाल उठने लगे। हालांकि आम आदमी पार्टी के नेता इस बात का जवाब नहीं दे पा रहे हैं कि ईवीएम मशीन फर्जी है तो दिल्ली में वे 70 में से 67 सीट कैसे जीत गए। 

साफ है कि देश विरोधी ताकतें भारत का नाम और काम दोनों को खराब करने की साजिश रच रही हैं ताकि भारत के निर्यात पर असर पड़े। जाहिर है सत्तालोलुपता में आम आदमी पार्टी इतनी नीचता पर उतर आई है कि देश को बदनाम करने में ही अपनी शान समझने लगी है

देश की साख पर बट्टा लगाती रही है AAP

  • अरविंद केजरीवाल ने सर्जिकल स्ट्राइक का सबूत मांगा और पाकिस्तान में हीरो बन गए
  • पंजाब में गुरुग्रंथ साहिब का पन्ना जलाने का आरोप आम आदमी पार्टी पर लगा
  • आतंकी अफजल की फांसी के विरोधी ‘आजादी गैंग’ को केजरीवाल ने  समर्थन दिया
  • AAP के दो विधायकों को संदेह के आधार पर कनाडा ने भारत वापस भेज दिया
  • खालिस्तानी आतंकी गुरदयाल सिंह का आम आदमी पार्टी से संबंध हुआ उजागर
  • बांग्लादेशी घुसपैठियों को देश का नागरिक बता कर भारत का पक्ष कमजोर किया

LEAVE A REPLY