Home विपक्ष विशेष कर्नाटक चुनाव में दोगले पत्रकारों की खुली पोल

कर्नाटक चुनाव में दोगले पत्रकारों की खुली पोल

272
SHARE

कर्नाटक में भारतीय जनता पार्टी सरकार बनाने की ओर आगे बढ़ रही है। कर्नाटक चुनाव में एक अहम बात देखने को मिली कि कांग्रेस के कई चाटुकारों ने पत्रकारिता के नाम पर कांग्रेस के पक्ष में माहौल बनाने का काम किया। पिछले 15-20 दिनों में तमाम अखबारों में इन पत्रकारों ने अपने लेखों से यह साबित करने की कोशिश की कि राज्य में कांग्रेस का शासन बहुत अच्छा चल रहा है, और कांग्रेस दोबारा सत्ता में लौटने वाली है। इतना ही नहीं इन तथाकथित पत्रकारों ने घुमा फिराकर भाजपा और प्रधानमंत्री मोदी को भी घेरने की कोशिश की। एक नजर डालते हैं कुछ ऐसे ही एजेंडा पत्रकारों के लेखों पर।

एजेंडा पत्रकार डी पी सतीश ने कांग्रेस के पक्ष में रिपोर्टिंग करने के लिए नैतिकता की सारी हदें पार कर दीं। मतगणना के दिन तक डी पी सतीश को कांग्रेस के सत्ता में आने की उम्मीद थी। उन्होंने लिखा कि सिद्धारमैया 30 वर्षों का रिकॉ़र्ड तोड़ने वाले हैं।-

एबीपी न्यूज चैनल में वरिष्ठ पद पर तैनात पत्रकार जीतेंद्र दीक्षित ने तो मतगणना से एक दिन पहले अपने फेसबुक पेज पर ऐलान कर दिया था कि कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बनेगी।

एजेंडा पत्रकार राजदीप सरदेसाई कर्नाटक के चुनाव में भाजपा की जीत को लेकर कतई आश्वस्त नहीं थे। शुरू से ही वो कांग्रेस पार्टी की जीत की वकालत करते रहे। 

एजेंडा पत्रकार बरखा दत्त ने तो मुख्यमंत्री सिद्धारमैया की जबरदस्त ब्रांडिंग की और उन्हें हर मामले में प्रधानमंत्री मोदी से बेहतर साबित करने की कोशिश की

पूर्व पत्रकार और वर्तामान में कांग्रेस से राज्यसभा सांसद कुमार केतकर ने बहुत पहले ही भविष्यवाणी कर दी थी, कि अगर भाजपा जीतेगी तो ईवीएम की वजह से-

न्यूज सेंट्रल नाम की वेबसाइट में पत्रकार प्रिया रमानी ने लिखा कि कांग्रेस फायदे में है।

पत्रकार अशोक स्वैन ने तो प्रधानमंत्री मोदी को भारत के लोकतंत्र के लिए खतरा बता दिया-

एजेंडा पत्रकार निखिल वागले ने भी कर्नाटक चुनाव के दौरान घृणा फैलाने में कोई कसर नहीं छोड़ी-

हिंदू की पत्रकार निस्तुला हैबर चुनाव प्रचार के दौरान कांग्रेस के पक्ष में रिपोर्टिंग करती रहीं। भाजपा की तरफ से जब भी कोई सवाल खड़े किए गए, तो इन्होंने कांग्रेस प्रवक्ता की तरह काउंटर करने की कोशिश की।-

पत्रकार डी पी सतीश ने न्यूज-18 वेबसाइट में अपने एक लेख में कांग्रेस अध्यक्ष का गुणगान करते हुए लिखा कि राहुल गांधी की तरह अभी तक किसी भी राष्ट्रीय पार्टी के अध्यक्ष ने इतने जिलों का दौरा नहीं किया।

तो देखा आपने किस तरह पत्रकारों की एक लॉबी कर्नाटक चुनावों के दौरान कांग्रेस के लिए जमीन तैयार करती रही, लेकिन अंतिम परिणामों ने इन एजेंडा पत्रकारों की पूरी मेहनत पर पानी फेर दिया।

LEAVE A REPLY