Home विचार सेकुलर बनने का ढोंग करते हैं शायर जावेद अख्तर!

सेकुलर बनने का ढोंग करते हैं शायर जावेद अख्तर!

597
SHARE

शायर-गीतकार जावेद अख्तर एक जाना-पहचाना नाम है। देशद्रोह या आतंक से जुड़े मामले में आगे आकर कथित रूप से सेकुलर कहलाने वाले लोगों में शामिल हो जाते हैं। आतंकी अफजल गुरु के शव का मामला हो या इशरत जहां मामला या फिर उमर खालिद के देश विरोधी नारे लगाने का मामला। जावेद अख्तर तुरंत इन लोगों के समर्थन में आगे आ जाते हैं और राष्ट्रवादी लोगों पर ताना कसने लगते हैं। जबकि पश्चिम बंगाल में सांप्रदायिक दंगा और प्रोफेसर की पिटाई, जाधवपुर विश्वविद्यालय में देश विरोधी नारे लगने पर, दिल्ली में डॉक्टर नारंग की हत्या, केरल में वामपंथी हिंसा या फिर कश्मीरी पंडितों के खिलाफ अभियान पर चुप्पी साध लेते हैं। सवाल उठता है कि देशविरोधी लोगों का साथ देकर क्या वे सेकुलर होने का ढोंग करते हैं?

जावेद अख्तर अब अपने एक ट्वीट को लेकर सुर्खियों में हैं। गुरमेहर कौर मामले में देश विरोधी नारे लगाने वाले लोगों के समर्थन में आते हुए उन्होंने क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग के साथ योगेश्वर दत्त, बबिता फोगाट, गीता फोगाट जैसे खिलाड़ियों को अनपढ़ बता दिया। अपने ट्वीट में उन्होंने इन खिलाड़ियों और रेसलर को कम पढ़ा-लिखा बताते हुए तंज कसा। उन्होंने कहा कि अगर कुछ कम पढ़े-लिखे खिलाड़ी और रेसलर किसी शहीद की बेटी को ट्रॉल करते हैं तो समझ आता है, लेकिन पढ़े-लिखे लोगों को क्या हो गया है।

इसके बाद तो ट्वीट वार शुरू हो गया। योगेश्वर दत्त ने कहा कि आपने कविता -कहानी की रचना की, तो हमने भी कुछ कारनामे कर विश्व पटल पर इतिहास रचा है।

योगश्वर ने इस मामले में बीच में कूदे कमाल आर खान को भी जवाब दिया।

बबीता फोगाट ने जावेद अख्तर को जवाब देते हुए कहा कि मैंने जब स्कूल भी नहीं देखा था तबसे भारतमाता की जय बोल रही हूं। देशभक्ति किताबों से नहीं आती।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जीतने पर देश छोड़ देने की बात करने वाले कमाल आर खान (केआरके) को भी बबीता ने करारा जवाब दिया।

बबीता फोगाट के पिता महावीर फोगाट ने जावेद अख्तर को जवाब देते हुए कहा कि यहां एक उम्र बीत गई देश को मेडल दिलाने में…और वो एक पल नहीं लगाते अनपढ़ बताने में।

फिल्मकार मधुर भंडारकर ने कहा कि अभिव्यक्ति की आजादी से शिक्षा का कोई लेना-देना नहीं है, मैं 6ठी फेल छात्र हूं फिर भी कोई मुझे अपनी राय रखने से रोक नहीं सकता।

फिल्म अभिनेता अनुपम खेर ने कहा कि असहिष्णु गैंग वापस आ गया है, चेहरे वहीं हैं, नारे बदल गए हैं।

पढ़े-लिखे जावेद अख्तर जिस तरह से देशद्रोहियों के पक्ष में माहौल बनाने की कोशिश करते हैं, वो किसी जेहाद से कम नहीं है। उन्होंने आतंकी अफजल गुरु के शव को उसके परिवार को सौंपने की मांग की थी।

जावेद अख्तर ने ही इशरत जहां मुठभेड़ मामले में कैंडल मार्च का समर्थन किया था और इशरत को निर्दोष बताया था। वे इस मामले को सुप्रीम कोर्ट में भी ले गए थे।

और तो और इन्होंने जेएनयू में देश विरोधी नारे लगाने वाले उमर खालिद को सच्चा भारतीय बताया और कहा कि वह निर्दोष है।

LEAVE A REPLY