Home समाचार सर्जिकल स्ट्राइक-2 को मिल रहा अंतरराष्ट्रीय समर्थन, विश्व ने देखा पीएम मोदी...

सर्जिकल स्ट्राइक-2 को मिल रहा अंतरराष्ट्रीय समर्थन, विश्व ने देखा पीएम मोदी की अगुवाई में भारत का पराक्रम

322
SHARE

भारतीय वायुसेना ने सर्जिकल स्ट्राइक-2 के तहत पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में आतंकियों के अड्डे पर बड़ी कार्रवाई की। इसमें जैश-ए-मोहम्मद, लश्कर-ए-तैएबा, हिजबुल मुजाहिद्दीन के कैंप तबाह हो गए। जानकारी के मुताबिक हमले में जैश-ए-मोहम्मद का कश्मीर ऑपरेशन का चीफ मुफ्ती अजहर खान और जैश चीफ मसूद अजहर का बड़ा भाई इब्राहिम अजहर सहित कुल 250 से 300 आतंकी मारे गए। सफल सर्जिकल स्ट्राइक के बाद भारत ने इसकी जानकारी विश्व समुदाय को भी दी।  भारत ने अपने राजदूतों को निर्देश दिया कि वो स्थानीय सरकारों को जानकारी दे कि ये हमला पाकिस्तान के खिलाफ नहीं किया गया, बल्कि आतंकवाद के खिलाफ किया गया। भारत के इस कार्रवाई को विश्व के कई देशों का समर्थन मिला है।

भारत सरकार ने दी अन्य देशों को जानकारी

भारतीय वायुसेना द्वारा पाकिस्तान के आतंकी ठिकानों को नष्ट किए जाने के बारे में भारत सरकार ने अन्य देशों को जानकारी दी। विदेश सचिव विजय गोखले ने बालाकोट में भारतीय वायुसेना द्वारा किए गए हमले की जानकारी अमेरिका, इंग्लैंड, रूस, ऑस्ट्रेलिया, इंडोनेशिया, तुर्की, चीन सहित छह एशियन देशों को दी।

भारत की जानकारी से संतुष्ट हूं- अमेरिका

अमेरिका के डीन ऑफ डिप्लोमैटिक कॉर्प्स हंस कास्टेलानोस ने कहा कि इससे संतुष्ट हूँ कि भारतीय सरकार ने इतनी तेजी से सभी उच्चायोग को जानकारी दी। खबर यह है कि उन्होंने किसी नागरिक या किसी पाकिस्तानी सैन्य ठिकाने को क्षति नहीं पहुंचायी है, और यह सीधा हमला था जो विश्वस्त खुफिया जानकारियों पर आधारित था।

भारत द्वारा आत्मरक्षा में उठाया गया कदम विश्व के हित में – लॉरेंस सेल्लिन

अमेरिकी सेना के सेवानिवृत कर्नल लॉरेंस सेल्लिन ने कहा कि भारत ने कोई गलत कार्रवाई नहीं की है। पाकिस्तान के खिलाफ भारत द्वारा आत्मरक्षा में उठाया गया कदम है, जो पूरी तरह से उचित और संतुलित है। दूसरे देश द्वारा प्रायोजित आतंकवादी भारत में बार-बार हमले करते हैं और अफगानिस्तान के खिलाफ तालिबान अघोषित युद्ध छेड़ा हुआ है। भारत ने विश्व के हित में कार्रवाई की है।

‘संयम बरतने’ की अपील के साथ आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में समर्थन

सर्जिकल स्ट्राइक-2 के बाद चीन की पहली प्रतिक्रिया आई। चीन ने मंगलवार को भारत और पाकिस्तान से ‘संयम बरतने’ का आह्वान किया और नयी दिल्ली से आतंकवाद के खिलाफ अपनी लड़ाई अंतरराष्ट्रीय सहयोग के जरिए जारी रखने को कहा। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू कांग ने यहां मीडिया से कहा, ‘हमने संबंधित खबरों को देखा है।’ उन्होंने कहा, ‘मैं कहना चाहता हूं कि भारत और पाकिस्तान दक्षिण एशिया में दो महत्वपूर्ण देश है। दोनों के बीच मधुर संबंध और सहयोग दोनों देशों के हित में है और दक्षिण एशिया में शांति और स्थिरता के लिए भी अहम है।’

जैश के खिलाफ कार्रवाई करे पाकिस्तान-ऑस्ट्रेलियाई विदेश मंत्रालय
पाकिस्तान में आतंकियों के खिलाफ ऑस्ट्रेलिया के विदेश मंत्रालय ने अपना बयान जारी किया है। ऑस्ट्रेलिया की ओर से कहा गया है कि पाकिस्तान को अपने क्षेत्र में आतंकी संगठनों के खिलाफ सख्त एक्शन लेना चाहिए। इसके साथ ही पाकिस्तान को पुलवामा हमले की जिम्मेदारी लेने वाले आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद और लश्कर-ए-तैयबा के खिलाफ भी कार्रवाई करने के लिए कहा। ऑस्ट्रेलिया ने कहा, “जैश-ए-मोहम्मद पर रोक लगाने के लिए पाकिस्तान से जितना संभव हो प्रयास करना चाहिए। वो चरमपंथी ग्रुप को अपने क्षेत्र से संचालित करने की अनुमति नहीं दे सकता है।”

Leave a Reply