Home नरेंद्र मोदी विशेष मोदी सरकार की नीतियों से आएंगे अच्छे दिन, जल्द ही दुनिया की...

मोदी सरकार की नीतियों से आएंगे अच्छे दिन, जल्द ही दुनिया की दूसरी बड़ी अर्थ व्यवस्था बनेगा भारत

445
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की आर्थिक नीतियों की वजह से भारत के लिए आर्थिक मोर्चे पर खुशखबरी आई है। ब्रिटिश फाइनेंसियल सर्विसेस फर्म ने अनुमान व्यक्त किया है कि भारत अर्थव्यवस्था के मामले में 2030 तक अमेरिका से आगे निकल जाएगा और दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा। स्टैंडर्ड चार्टर्ड पीएलसी का मानना है कि तब तक चीन अमेरिका को पछाड़ देगा और टॉप पर पहुंच जाएगा। अभी तक टॉप पर चल रहा अमेरिका, भारत और चीन के बाद तीसरे स्थान पर आ जाएगा।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक स्टैंडर्ड चार्टर्ड पीएलसी का अंदाजा है कि इंडोनेशिया की अर्थव्यवस्था चौथे और तुर्की पांचवे स्थान पर रहेगा।

स्टैंडर्ड चार्टर्ड के एकाउंटेंट्स का कहना है, ‘हमारे दीर्घकालिक विकास पूर्वानुमानों को एक प्रमुख सिद्धांत द्वारा रेखांकित किया गया है। विश्व जीडीपी में देशों का हिस्सा, दुनिया की आबादी में उन देशों की हिस्सेदारी और प्रति व्यक्ति आय को ध्यान में रखते हुए यह आंकड़े तैयार किए गए हैं।’

अर्थशास्त्रियों के मुताबिक, भारत की अर्थव्यवस्था में 2020 तक 7.8 प्रतिशत तक की तेजी का अनुमान है, जबकि चीन 2030 तक 5 प्रतिशत की तेजी पा लेगा। जो अर्थव्यवस्था के आकार को देखते हुए प्राकृतिक मंदी को दर्शाता है।

स्टैंडर्ड चार्टर्ड के अर्थशास्त्रियों द्वारा निकाले गए अन्य निष्कर्षों के अनुसार 2020 तक दुनिया की अधिकांश आबादी मध्यम-वर्ग में आ जाएगा। हालांकि चीन की अर्थव्यवस्था को अपने नागरिकों की बढ़ती उम्र, दूसरी  अर्थव्यवस्थाओं के प्रभाव, शहरीकरण और शिक्षित मध्यम वर्ग का असर झेलना होगा।

इसके अलावा विश्व बैंक के प्रमुख की ओर से भारत की विकास की दर को लेकर जो आंकड़ा दिया गया है वह भी मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों पर मोहर लगा रही है।

विश्व बैंक ने उम्मीद जताई है कि भारत वर्ष 2018-19 में 7.3 की दर से विकास करेगा। यही नहीं अगले दो वर्षों में भारत की जीडीपी 7.5 फीसदी तक रहेगी और भारत इसी रफ्तार के साथ विकास करेगा। भारत में जिस तरह से खपत और निवेश में बढ़ोतरी हुई है, उसके असर से आने वाले सालों में देश की जीडीपी में बढ़ोतरी दिखेगी। विश्व बैंक ने कहा है कि भारत दुनिया की सबसे तेजी से आगे बढ़ती अर्थव्यवस्था के रुप में आगे बढ़ता रहेगा।

वहीं चीन के आर्थिक विकास की बात करें तो विश्व बैंक की ओर से संभावना जताई गई है कि 2019 और 2019 में यह 6.2 फीसदी रहेगी। जबकि वर्ष 2021 में यह कम होकर 6 फीसदी तक पहुंच सकती है। जनवरी 2019 ग्लोबल इकॉनमिक प्रॉस्पेक्ट्स रिपोर्ट की मानें तो चीन में विकास की दर कम होगी। पिछले वर्ष 2018 में चीन की विकास दर 6.5 फीसदी थी जबकि भारत की जीडीपी 7.3 फीसदी थी। वर्ष 2017 में चीन 6.9 फीसदी की दर से विकास कर रहा था, जबकि भारत 6.7 फीसदी की दर से।

विश्व बैंक प्रॉस्पेक्ट्स ग्रुप के डायरेक्टर अयान कोसे ने कहा कि भारत की विकास दर काफी मजबूत है, भारत अभी भी सबसे तेजी से आगे बढ़ती अर्थव्यवस्था है। जिस तरह से भारत में निवेश और खपत में बढ़ोतरी हुई है, हम उम्मीद करते हैं कि भारत 2018-19 में 7.3 फीसदी की दर से विकास करेगा। जबकि 2019-20 में औसत विकास दर 7.5 तक रह सकती है। बिजनेस की रैंकिंग में भारत ने काफी सुधार किया है, देश में विकास की सतत रफ्तार बनी हुई है।

Leave a Reply