Home पोल खोल ईवीएम हैक पर केजरीवाल को आईआईटी इंजीनियर ने लगाई लताड़

ईवीएम हैक पर केजरीवाल को आईआईटी इंजीनियर ने लगाई लताड़

785
SHARE

दिल्ली के विवादास्पद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को दिल्ली आईआईटी के एक इंजीनियर ने तगड़ी लताड़ लगाई है। असल में गोवा, पंजाब और राजौरी गार्डन चुनाव में मिली करारी हार से बौखलाए केजरीवाल ने एक चैनल को दिए इंटरव्यू में कहा कि मैं तो आईआईटी से इंजीनियर हूं और आपको ईवीएम से छेड़छाड़ के दस तरीके बता सकता हूं। केजरीवाल के इस बयान पर दिल्ली आईआईटी के इंजीनियर गौरव राजपुरोहित ने कहा कि आपने 25 साल पहले आईआईटी से मैकेनिकल इंजीनियरिंग किया है और मैकेनिकल इंजीनियर होने के कारण आप ईवीएम के बारे में कुछ नहीं जानते। आप जनता को बेवकूफ बना सकते हैं इंजीनियर को नहीं।

आइए देखिए गौरव ने केजरीवाल के नाम लिखे पत्र में क्या-क्या लिखा है-

श्रीमान अरविन्द केजरीवाल जी,
वैसे सामान्यतया मैं आपको गंभीरता से नहीं लेता। परन्तु आज मुझे आपका कुछ कहा व्यक्तिगत रूप से बुरा लगा है। आप ने कहा की आप “IIT के इंजीनियर” है, तो EVM को हैक करने के 10 तरीके बता सकते है। मैं भी IIT का इंजीनियर (Electrical) हूं और मैं आपको इस संस्थान की इज्जत मिटटी में नहीं मिलाने दूंगा। आज आपको कुछ तथ्यों से सामना करवाता हूं। आपने आज से करीब 25 साल पहले IIT खड़गपुर से मेकेनिकल इंजीनियरिंग किया। आप जनता को बेवकूफ बना सकते है पर एक इंजीनियर को नहीं। एक मैकेनिकल इंजीनियर होने के नाते आप EVM के बारे में कुछ नहीं जानते।

EVM के बारे में ज्ञान होने के लिए आपको IC Design, Material science, Communication system, Electronics, Embedded system, Microprocessors and Programming ka knowledge hona jaruri hai। इंजीनियर तो सामन्यतया २ साल में सब भूल जाते है अगर उनका नाता इंजीनियरिंग से टूट गया हो और आप को तो 25 साल बीत चुके है, इसलिए “IIT का इंजीनियर” होने के नाम पर लोगों को बेवकूफ बनाना बंद कीजिये। आप जानते भी है EVM कैसे काम करता है? EVM एक Stand-alone मशीन है, इसका बाहर की दुनिया से कोई नाता नहीं, इसे Software के माध्यम से हैक करना तो लगभग नामुमकिन है। हां अगर कोई जाके चिप बदल आये तो संभव है, इसको रोकने के लिए भी चुनाव आयोग आवश्यक प्रशासनिक कदम उठाता है। आप एक हारे हुए राजनेता के रूप मैं EVM पर प्रश्न उठायें पर एक “IIT का इंजीनियर” होने के नाते नहीं।

वैसे एक सत्य ये भी है की कोई IIT का हो जाने मात्र से अच्छा इंजीनियर नहीं हो जाता। अच्छे इंजीनियर तो वो है जिन्होंने EVM जैसी मशीन बनायीं , और इसका एक एक हिस्सा पूर्ण रूप से भारतीय बनाया ताकि किसी विदेशी को भी न पता चल पाए की EVM कैसे काम करती है। एक हिंदी न्यूज़ चैनल के जाने मने पत्रकार रजत शर्मा ने आपको IIT का Manufacturing Defect करार दिया। कुछ तो शर्म करो, IITs की कितनी बेज्जती करवाओगे।

खैर फिर भी आप को लगता है की EVM हैक हो सकती है तो ये गधे की तरह ढेंचू- ढेंचू करना बंद करो। चुनाव आयोग ने सभी को निमंत्रण दिया है, आप भी जाएं, आपके 10 में से कोई 1 तरीका लगाएं, EVM हैक करें और जनता को सिद्ध करें। एक बार हैक करके दिखाओ, फिर कहो मैं IIT से हूं तो हमें भी अच्छा लगेगा की IIT के मेकेनिकल इंजीनियर ने Electrical, इलेक्ट्रॉनिक्स, मटेरियल साइंस, आईटी इंजीनियर सब को गलत साबित कर दिया। देश का भी भला होगा, पता तो चलेगा की सिस्टम में क्या बदलाव जरूरी है, इसे और फुलप्रूफ बनाने के लिए। पर इंजीनियर होने के बावजूद भी आप पुरानी और भी घटिया बैलेट पद्धति से चुनाव की मांग कर रहे, ये तो पूरी इंजीनियर कम्युनिटी के लिए शर्मनाक है। इंजीनियर टेक्नोलॉजी के मामले में कभी पीछे मुड़ के नहीं देखते।
God bless you
आपका शुभचिंतक
गौरव, IIT दिल्ली

LEAVE A REPLY