Home समाचार भगवान हनुमान की तस्वीर बनाने वाले करण को यकीन नहीं हो रहा...

भगवान हनुमान की तस्वीर बनाने वाले करण को यकीन नहीं हो रहा कि पीएम मोदी ने की है उनकी तारीफ

119
SHARE

करण आचार्य को अब भी विश्वास नहीं हो रहा है कि उनकी कला की तारीफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की है। पीएम मोदी से तारीफ सुनकर करण काफी खुश हैं। उनका कहना है कि यह उनकी जिंदगी का सबसे यादगार दिन है। करण का कहना है कि, ‘मेरे दोस्त रविवार सुबह से ही कॉल कर रहे थे। मुझे लगा वो ऐसे ही कर रहे होंगे, लेकिन एक दोस्त ने मैसेज कर बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनकी हनुमान वाली तस्वीर की तारीफ की है। जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है। जब मैंने वीडियो देखा तो मैं खुश भी था और हैरान भी। मुझे यकीन नहीं हो रहा था कि प्रधानमंत्री ने मेरी आर्ट की तारीफ की। यह मेरी जिंदगी का सबसे यादगार पल है।’

करण आचार्य का यह भी कहना है कि वे प्रधानमंत्री मोदी के प्रशंसक हैं।

दरअसल में आजकल भगवान हनुमान की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। सिर्फ सोशल मीडिया ही नहीं टीशर्ट और गाड़ियों के पीछे शीशे में भी आपको भगवान हनुमान का यह पोस्टर चिपका मिल जाएगा। इस तस्वीर में भगवान हनुमान की एक खास छवि दिखती है। यह तस्वीर आचार्य ने करीब तीन साल पहले 2015 में बनाई थी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कर्नाटक चुनाव में कई रैलियां कर रहे हैं और उन्होंने करण आचार्य की जमकर तारीफ की। प्रधानमंत्री ने शनिवार को अपने संबोधन में करण आचार्य का भी जिक्र किया उन्होंने कहा कि ‘करण आचार्य ने हनुमान जी की जो तस्वीर बनाई। उस हनुमान जी की तस्वीर की देशभर में गूंज उठी। देश भर में उसकी चर्चा हुई और वह बहुत प्रशंसनीय है। मैंने देखा कि देशभर के टीवी वाले करण आचार्य का इंटरव्यू लेने के लिए कतार लगाकर खड़े थे। यह करण आचार्य की कला की ताकत थी। उसकी कल्पना शक्ति की ताकत थी। यह मंगलौर का गर्व है।’

प्रधानमंत्री मोदी ने इसके साथ ही आगे कहा कि, ‘जिनको पेट में दर्द होता है। उन्होंने करण आचार्य जैसे कलाकार की हनुमान जी की तस्वीर को भी विवादों में घसीट दिया और कांग्रेस का जो ecosystem है, वो पूरी तरह उसको बदनाम करने में लग गया। ऐसी मानसिकता वाले लोग जो करण आचार्य की कला को सहन नहीं कर सकते। उनके जेहन में लोकतंत्र होने का कोई सबूत नहीं मिल रहा। ऐसी कांग्रेस पार्टी को अब कर्नाटक में काम करने का एक दिन भी अधिकार नहीं है।’

LEAVE A REPLY