Home चार साल बेमिसाल ‘आयुष्मान’ से आरक्षण तक मोदी सरकार ने गरीबों के लिए योजनाओं की...

‘आयुष्मान’ से आरक्षण तक मोदी सरकार ने गरीबों के लिए योजनाओं की झड़ी लगा दी

701
SHARE

26 मई 2014 को सत्ता संभालने के बाद से ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपना पल-पल देश और देश के गरीबों को समर्पित कर दिया। मोदी सरकार ने गरीबों के लिए सिर्फ साढ़े चार वर्ष में ही जितने काम किए, उसकी मिसाल पिछले छह-सात दशक की राजनीति में नहीं मिलती। पीएम मोदी ने सभी धर्मों और जातियों के लोगों खासकर गरीबों, वंचितों और महिलाओं के लिए कल्याणकारी योजनाओं की झड़ी लगा दी। एक नजर डालते हैं, गरीबों के लिए किए गए मोदी सरकार के ऐतिहासिक कार्यों पर।

       

आरक्षण से गरीबों के रक्षण की कोशिश

जाति की राजनीति करने वाले नेताओं ने वर्षों से सामान्य वर्ग को आरक्षण देने का सिर्फ शिगूफा छोड़ रखा था, लेकिन मोदी सरकार ने एक झटके में ही इसे कैबिनेट से पारित करा दिया। यहां भी पीएम मोदी का इरादा सामान्य वर्ग के ऐसे लोगों को राहत देने का है, जो आर्थिक रूप से गरीब हैं। मोदी कैबिनेट ने सोमवार को सामान्य श्रेणी में आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग के लोगों को नौकरियों और शैक्षणिक संस्थानों में 10 प्रतिशत आरक्षण देने का फैसला किया। सरकार ने मंगलवार को इस संबंध में संसद में संविधान संशोधन विधेयक भी पेश कर दिया। 

‘आयुष्मान योजना’ से ‘आयुष्मान भव’ का आशीर्वाद

23 सितंबर 2018 को झारखंड की राजधानी रांची में पीएम मोदी ने जब देश के 50 करोड़ लोगों के लिए इतनी बड़ी योजना का शुभारंभ किया, तो देश ही नहीं दुनिया को भी इस पर अचरज हुआ। सभी को यही लग रहा था कि भारत जैसा गरीब देश हर गरीब परिवार को साल में पांच लाख रुपये की सहायता की गारंटी कैसे दे सकता है? लेकिन, पीएम मोदी ने अपने जादुई इरादों से इसे पूरा करके दिखा दिया। तीन महीने से कम समय में ही इस योजना के जरिए ऑपरेशन कराने वाले गरीबों की संख्या तीन लाख से ज्यादा हो गई है। अब पूरी दुनिया में इसे एक मॉडल के तौर पर देखा जा रहा है। 

धुएं-धुंध से मुक्ति की योजना

मोदी सरकार के काम करने की गति का अंदाजा इसी तथ्य से लगाया जा सकता है कि पिछले कई दशकों से मोदी सरकार के आने तक सिर्फ 13 करोड़ लोगों को गैस कनेक्शन दिया गया था। जबकि, केंद्र सरकार ने पिछले साढ़े चार वर्षों में ही 13 करोड़ लोगों को गैस कनेक्शन दे दिया। प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के 1 मई, 2016 को लॉन्च होने के बाद से अब तक 6 करोड़ से अधिक महिलाओं को मुफ्त गैस कनेक्शन दिए जा चुके हैं। उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने इसी दो जनवरी को इस योजना के तहत छह करोड़वां कनेक्शन जसमीना खातून को दिया। सिर्फ 32 महीने में ही 6 करोड़ से ज्यादा मुफ्त कनेक्शन दे दिए गए।

प्रधानमंत्री आवास योजनाः पक्के इरादों से बनते पक्के मकान

प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के तहत गरीबों के लिए एक करोड़ पक्के मकान बनाए जा चुके हैं। मोदी सरकार ने 2022 तक हर नागरिक के सिर पर पक्की छत का लक्ष्य निर्धारित किया है। प्रधानमंत्री मोदी की इस महत्त्वाकांक्षी योजना को युद्धस्तर पर क्रियान्वित किया जा रहा है। प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना से मूल रूप से दलित, पिछड़े और आदिवासियों को फायदा मिल रहा है। 

‘स्वच्छ भारत मिशन’ की युक्ति, खुले में शौच से मुक्ति

खुले में शौच करने वालों में ज्यादातर गरीब, खासकर दलित और आदिवासी रहे हैं, जिनके पास अपना शौचालय नहीं था। स्वच्छ भारत मिशन के तहत देश भर में 17 अक्टूबर, 2018 तक 9,24,35,240 घरों में शौचालय बनाए जा चुके थे। 5,13,777 गांवों को खुले में शौच से मुक्ति मिल चुकी है। 31 राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों को खुले में शौच से मुक्ति मिल चुकी है। 

सौभाग्य योजनाः बिजली से बदलता भाग्य

देश के 18, 452 गांवों में आजादी के बाद से मोदी सरकार के आने तक बिजली नहीं पहुंची थी। सरकार ने इन सभी गांवों में बिजली पहुंचाने के लक्ष्य को भी समय से पहले ही पूरा कर लिया है। अब देश के हर गांव में बिजली पहुंच चुकी है। दलित-आदिवासी और पिछड़े, जो अब तक अंधेरे में रहने को मजबूर थे, उन्हें रोशनी मिल गयी है। साल 2022 तक हर घर चौबीस घंटे बिजली के सपने को पूरा करने के लिए भी मोदी सरकार जी-जान से जुटी है।

 खिलखिलाता बचपन स्वस्थ मातृत्व 

मोदी सरकार नवजात शिशु और गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान दे रही है। मिशन इंद्रधनुष के तहत शिशुओं और माताओं का संपूर्ण टीकाकरण कर इस दिशा में बड़ा कदम बढ़ाया गया है। इस योजना का उद्देश्‍य बच्‍चों में रोग-प्रतिरक्षण की प्रक्रिया को तेज गति देना है।

जनधन योजनाः जन के धन की सुरक्षा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2014 में गरीबों को बैंकों से जोड़ने के लिए ऐतिहासिक जनधन योजना की शुरुआत की। इस योजना के तहत 32 करोड़ 94 लाख से ज्यादा गरीबों को बैंकिंग सिस्टम से जोड़ा गया। इन खातों में गरीबों के 80,000 करोड़ रुपये से अधिक रुपये जमा हैं।

जीवन में ज्योति बनाए रखने की कोशिश

यह सरकार के सहयोग से चलने वाली जीवन बीमा योजना है। इसमें 18 साल से 50 साल तक के भारतीय नागरिक को 2 लाख रुपये का बीमा कवर सिर्फ 330 रुपये के सलाना प्रीमियम पर उपलब्‍ध है। इस योजना के तहत अब तक 5 करोड़ 47 लाख लोग पंजीकरण करा चुके हैं।

परेशानहाल लोगों के लिए ‘अटल’ इंतजाम

अटल पेंशन योजना मोदी सरकार की यह एक और अहम योजना है। इसमें बीमारी, दुर्घटना या वृद्धावस्था में कवर दिया जाता है। इस योजना का उद्देश्य असंगठित क्षेत्र के 18 से 40 साल के लोगों को पेंशन फायदों के दायरे में लाना है। इससे उन्हें हर महीने न्यूनतम भागीदारी के साथ सामाजिक सुरक्षा का लाभ उठाने की अनुमति मिलती है। इस योजना के तहत अब तक 1 करोड़ 11 लाख लोगों का पंजीकरण हो चुका है।

Leave a Reply