Home समाचार विपक्ष का दोहरापन है एनआरसी का विरोध

विपक्ष का दोहरापन है एनआरसी का विरोध

186
SHARE

प्रधानमंत्री मोदी ने एक बार फिर दोहरी नीति के कारण विपक्ष की को आड़े हाथों लिया है। एक साक्षात्कार में पीएम मोदी ने कहा कि ‘जो लोग बाल ठाकरे का मताधिकार छिनने पर जश्‍न मनाते हैं, वे इस मुद्दे (एनआरसी) पर मातम मना रहे हैं।’ आपको बता दें कि वोट बैंक की राजनीति के चलते पीएम मोदी के विरोध करने के क्रम में कांग्रेस पार्टी समेत ममता बनर्जी, अरविंद केजरीवाल, अखिलेश यादव, तेजस्वी यादव जैसे तमाम नेताओं ने एनआरसी का विरोध जताया है।

देश में बांग्लादेशी घुसपैठिए की समस्या पिछले पांच दशक से है। अब तो रोहिंग्या भी देश के लिए खतरा बनने लगा है। वोट बैंक की राजनीति के बीच घुसपैठिए की समस्या से देश की सुरक्षा, अखंडता और अस्मिता पर संकट मंडराने लगा है। गौरतलब है कि 14 जुलाई, 2004 को तत्कालीन केंद्रीय गृह राज्य मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल ने लोकसभा में बताया था कि देश में 1.20 करोड़ बांग्लादेशी रहते हैं। इनमें से 50 लाख असम में हैं और 57 लाख बंगाल में। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू ने 16 नवंबर, 2016 भारत में रहने वाले बांग्लादेशी अप्रवासियों की तादाद दो करोड़ बताई थी।

विकराल होती समस्या के समाधान के लिए सुप्रीम कोर्ट ने देश की सरकारों को नागरिकों की सूची तैयार करने को कहा है, जिसे संक्षिप्त में एनआरसी कहते हैं। अभी मात्र असम में एनआरसी की सूची तैयार हुई है। यहां 40 लाख लोगों को एनआरसी के बाहर रखा गया है। इन्हें संदिग्ध रूप से बांग्लादेशी माना जा रहा है, जो बांग्लादेश से गलत तरीके से भारत में घुस गए।

एनआरसी तैयार करने के क्रम में सिर्फ असम में 40 लाख लोगों का संदिग्ध होना साबित करता है कि देश के अलग-अलग राज्यों में करोड़ों की संख्या में ऐसे लोग होंगे। सवा सौ करोड़ वाले देश में एक-एक नागरिकों के दस्तावेजों की जांच करना और एनआरसी सूची तैयार करना आसान नहीं है। ऐसे में एनआरसी की सूची तैयार करने की प्रक्रिया के समर्थन में पार्टियों को होना चाहिए लेकिन हो उल्टा रहा है। 

आइए एक नजर में देखते हैं एनआरसी को लेकर किस पार्टी के नेता ने क्या-क्या कहा है? 

एनआरसी लागू हुआ तो होगा गृह युद्ध : ममता बनर्जी
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा, ‘राजनीतिक मंशा से एनआरसी तैयार किया जा रहा है। हम ऐसा होने नहीं देंगे। वे (भाजपा) लोगों को बांटने की कोशिश कर रहे हैं। इस हालात को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है। देश में गृह युद्ध, खूनखराबा हो जाएगा।’ ममता ने भाजपा को चुनौती दी कि वह पश्चिम बंगाल में एनआरसी तैयार करके दिखाए।

एनआरसी से देश में उन्माद उभरेगा : मायावती
बीएसपी अध्यक्ष मायावती ने कहा, ‘भाजपा ने 40 लाख से अधिक धार्मिक और भाषाई अल्पसंख्यकों की नागरिकता को लगभग समाप्त करके केंद्र और असम की भाजपा सरकारों ने अपना संकीर्ण और विभाजनकारी लक्ष्य प्राप्त कर लिया है।’ उन्होंने कहा कि इससे देश में एक ऐसा उन्माद उभरेगा, जिससे निपट पाना बहुत मुश्किल होगा।

पश्चिम बंगाल मे एनआरसी की इजाजत नहीं : अब्दुल मन्नान, कांग्रेसी नेता
पश्चिम बंगाल विधानसभा में विपक्ष के नेता और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अब्दुल मन्नान ने कहा कि पश्चिम बंगाल में राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) की इजाजत नहीं दी जाएगी। उन्होंने कहा कि 50 साल पहले जन्मे लोग कहां जाएंगे? भाजपा का नाम लिए बिना मन्नान ने कहा, कुछ लोग कह रहे हैं कि अगर वे भविष्य में सत्ता में आते हैं तो पश्चिम बंगाल में भी एनआरसी की कवायद शुरू होगी। उन्हें आग से नहीं खेलना चाहिए।

 

सपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने नेपाल रहने वालों का किया अपमान
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश ने नेपाल में लंबे समय से रहने वाले हिन्दुओं का अपमान किया है जिनकी जड़ें भारत में है। अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा अपनी नाकामी छुपाने के लिए घुसपैठियों का मामला उठा रही है। मैं ममता जी को बधाई देता हूं कि वह लड़ाई लड़ रही हैं। कल को नेपाल में भी ऐसा हो गया तो हमारे कितने लोगों को वापस होना होगा। यह सब वोट का मामला है। 

 

LEAVE A REPLY