Home समाचार पीएम मोदी ने तय किया भाजपा के लिए लोकसभा का चुनावी मुद्दा

पीएम मोदी ने तय किया भाजपा के लिए लोकसभा का चुनावी मुद्दा

662
SHARE

किसी भी चुनाव में सबसे महत्वपूर्ण होता है मुद्दा। चुनाव में जिसका मुद्दा जितना असरदार होता है बाजी भी उसी के पक्ष में जाती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने काम और देश में किए विकास को पार्टी का चुनावी मुद्दा बनाया था। लेकिन अब बालाकोट में की गई सर्जिकल स्ट्राइक के बाद राष्ट्रवाद और राष्ट्रीय सुरक्षा को प्राथमिकता देने की बात हो रही है। वहीं दूसरी तरफ पिछले पांच सालों में विपक्षी दलों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा या एनडीए सरकार के खिलाफ चुनावी मैदान में जाने के लिए एक ज्वलंत मुद्दा तक तय नहीं कर पाया है। वैसे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल डील और कृषि कर्ज माफ करने को चुनावी मुद्दा बनाने का प्रयास किया था लेकिन वह अभी तक मुद्दा के रूप में स्थापित नहीं पाया है।

विकास के साथ राष्ट्रवाद को बनाएंगे मुद्दा
वैसे तो 2019 लोकसभा चुनाव जीतने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास देश का विकास और अपना कार्य ही काफी था। लेकिन पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान के बालाकोट में की गई एयर स्ट्राइक के बाद तो मुद्दा के मामले में मोदी का पलड़ा और भी भारी होता चला गया। मोदी ने पाकिस्तान में बालाकोट के आतंकी शिविरों पर की गई एयर स्ट्राइक को चुनावी मुद्दा बनाने जा रहे है। मोदी ने तो अभी से इस पर अपना फोकस करना शुरू कर दिया है। अब मोदी अपने हर भाषण में राष्ट्रवाद के साथ देश की सुरक्षा को प्रमुखता से उठाना शुरू कर दिया है। अब 2019 के लोकसभा चुनाव के मद्देनजर नई योजना पर काम करना शुरू हो गया है। भाजपा को जनता में हलचल मचाने लायक जिस प्रभावी मुद्दे की जरूरत थी वह उसे मिल गया है। अब भाजपा के प्रचार के केंद्र में विकास के साथ राष्ट्रवाद और देश की सुरक्षा अहम मुद्दा होगा। तभी पार्टी अभी से बालाकोट हमले को ‘मोदी है तो मुमकिन है’ के टैग लाइन के साथ जोड़ने की तैयारी में जुट गई है।

भावनात्मक देशभक्ति गीत लिखने की तैयारी में भाजपा 
बालाकोट हमले के बाद भाजपा एक बार फिर मोदी है तो मुमकिन है टैगलाइन की तरह भावनात्मक टैग लाइन बनाने में लगी है। इसके लिए प्रसून जोशी की सेवाएं ली जा रहीं हैं। प्रसून जोशी इस वक्त राष्ट्रवाद, राष्ट्रीय सुरक्षा और एयर स्ट्राइक को ध्यान में रखकर एक गीत बनाने में जुटे है। ताकि देश में बीजेपी के पक्ष में जनता की भावनाओं को मोड़कर उसी तरह लहर पैदा की जा सके जैसा उन्होंने ‘सौगंध इस मिट्टी की, मैं देश नहीं झुकने दूंगा’ गीत की रचना 2014 में की

Leave a Reply