Home केजरीवाल विशेष झूठ और पाखंड में राजीव गांधी की राह पर अरविंद केजरीवाल

झूठ और पाखंड में राजीव गांधी की राह पर अरविंद केजरीवाल

618
SHARE

दिल्ली के विवादास्पद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ट्विटर पर टॉप ट्रेंड कर रहे हैं। उनकी तुलना पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी से हो रही है। सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर पर लोगों का कहना है कि अरविंद केजरीवाल ठीक वैसा ही कर रहे हैं जैसा 1980 के दशक में तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने किया था। राजीव गांधी उस समय आरिफ मोहम्मद खान को आगे कर खुद पीछे हट गए थे।

लोगों का साफ कहना है कि शाहबानो केस के समय राजीव गांधी का और ईवीएम विवाद के दौरान केजरीवाल का आचरण एक जैसा झूठ और पाखंड से भरा रहा है। राजीव गांधी और अरविंद केजरीवाल दोनों को बड़ा जनादेश मिला लेकिन काम की जगह बहाने बनाते रहे।

व्यवस्था परिवर्तन के नारे के साथ कुर्सी संभालने वाले केजरीवाल ने जिस तरह से रंग बदले हैं उससे लोगों का मोहभंग हुआ है। पंजाब, गोवा और राजौरी गार्डन चुनाव के बाद एमसीडी चुनाव में उनकी आम आदमी पार्टी की करारी हार हुई है। दिल्ली की जनता और पार्टी नेताओं की नाराजगी को देखते हुए कुर्सी बचाने के लिए आप संयोजक केजरीवाल ने मजबूरी में अपनी गलती मान ली है। केजरीवाल का कहना है कि सच्चाई सबके सामने है। हम ने गलतियां की हैं लेकिन हम उनका आत्मनिरीक्षण करेंगे और उसे ठीक करेंगे।

केजरीवाल के इस माफीनामे पर दिल्ली के प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि “केजरीवाल गिरगिट की तरह रंग बदलते हैं। जनता ने उनको सबक सिखाया है। उनका मन गंदा है। इनपर भरोसा करना मुश्किल है।”

 

आइए देखते हैं सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर पर लोग किस तरह केजरीवाल को निशाने पर ले रहे हैं-

LEAVE A REPLY