Home विपक्ष विशेष नोटबंदी से भ्रष्ट विपक्षी नेता हुए बेनकाब

नोटबंदी से भ्रष्ट विपक्षी नेता हुए बेनकाब

628
SHARE

भ्रष्टाचार और कालेधन के खिलाफ चलाए गए नोटबंदी अभियान ने भ्रष्ट विपक्षी नेताओं को बेनकाब कर दिया है। नोटबंदी के कारण आम लोगों को परेशानी होने के नाम पर चिल्लाने वाले ये बेईमान लोग अब गिरफ्त में आने लगे हैं। गरीब, शोषित, वंचितों के नाम पर देश और जनता का पैसा लूटकर अपनी तिजोरी भरने वाले इन लोगों का पर्दाफाश होने लगा है। नोटबंदी ने राजनीतिक पार्टियों और नेताओं के बेहिसाब दौलत को लोगों के सामने लाकर रख दिया है। ताजा मामला कर्नाटक के कांग्रेसी मंत्री और प्रदेश पार्टी प्रमुख का है जिसके यहां से 162 करोड़ मिले हैं।

कांग्रेस के करप्ट मंत्री
आयकर विभाग को कर्नाटक के एक मंत्री और प्रदेश महिला कांग्रेस प्रमुख के परिसरों पर छापेमारी के दौरान 162 करोड़ रुपए से ज्यादा की अघोषित संपत्ति का पता चला है। इनके पास से 41 लाख रुपए की नकदी और 12 किलो सोने के आभूषण भी जब्त किए गए है। इसका खुलासा इन्होंने इनकम टैक्स विभाग के सामने नहीं किया था। विभाग का कहना है कि इनके परिसरों पर छापेमारी के दौरान कई बेनामी संपत्तियों और निवेश के बारे में जानकारी मिली है। मंत्री रमेश एल जारकीहोली और महिला कांग्रेस प्रमुख लक्ष्मी आर हेब्बालकर की शुगर फैक्ट्री है। इन दोनों ने सहकारी समितियों में बेनामी लेनदेन किया और बेनामी शेयर होल्डर खड़े किए।

चिदंबरम भी पाक साफ नहीं
पिछले महीने कांग्रेस नेता और यूपीए सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे पी चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम की कंपनी के कार्यालयों पर ईडी और आयकर विभाग ने छापे मारे गए। मामला एयरसेल-मैक्सिस मामले में कार्ति चिदंबरम की मनीलॉन्ड्रिंग जांच से जुड़ा है। सन टीवी के खाते से कई खातों में ट्रांसेक्शन होने की बात सामने आ रही है।
यही नहीं कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के करीबी पवन बंसल यूपीए की दोनों सरकारों में केंद्रीय मंत्री रहे। उनपर जमकर काले धन की कमाई करने का आरोप है। आरोप है कि यूपीए के रेलमंत्री पवन बंसल के भांजे ने रेलवे में प्रमोशन दिलवाने के लिए 10 करोड़ की डील की थी।

दलित के नाम पर दौलत
नोटबंदी के दौरान ईडी ने जब दिल्ली स्थित यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के करोलबाग ब्रांच पर छापा मारा तो बीएसपी के एक खाते में 104 करोड़ रुपए और पार्टी सुप्रीमो मायावती के भाई आनंद कुमार के खाते में 1.43 करोड़ रुपये का डिपॉजिट पकड़ा गया। ये पैसे 8 नवंबर को नोटबंदी के बाद खातों में जमा किए गए। इस बात का भी शक जताया गया कि बीएसपी और मायावती के भाई के खातों में हवाला लेनदेन के जरिए पैसा पहुंचा। जांच में पता चला कि बीएसपी के खातों में 102 करोड़ 1000 रुपए के पुराने नोटों की शक्ल में जमा हुए। बाकी के 500 के पुराने नोटों के रूप में जमा किए गए हैं। अधिकारी ये देखकर चकित हुए कि नोटबंदी के बाद हर एक दिन के अंतर पर इस खाते में 15-17 करोड़ रुपए जमा किए गए।

इसके बाद आयकर विभाग की जांच रिपोर्ट पता चला कि करीब सात साल में मायावती के भाई की पूंजी 7.1 करोड़ से बढ़कर 1316 करोड़ रुपए तक पहुंच गई। इस रिपोर्ट के मुताबिक आनंद कुमार के पास 440 करोड़ की नकदी है। इसके साथ ही उनकी अचल संपत्ति और उनके द्वारा किया गया निवेश करीब 876 करोड़ रुपयों का है। आयकर विभाग के मुताबिक मायावती के भाई से जुड़ीं 12 कंपनियां विभाग की जांच के दायरे में हैं।

छगन भुजबल के घर, दफ्तरों पर ईडी की छापेमारी
महाराष्ट्र के पूर्व पीडब्ल्यूडी मंत्री और एनसीपी के बड़े नेता छगन भुजबल के घर, दफ्तरों समेत 6 ठिकानों पर ईडी ने पिछले दिनों छापे मारे। इनमें भुजबल के रिश्तेदारों के परिसर भी शामिल हैं। जिसमें भुजबल और उनके परिवार के नाम अरबों की संपत्ति होने की बात सामने आई। भुजबल परिवार पर हवाला के जरिए करोड़ों रुपए विदेश में भेजने का आरोप है। बताया जा रहा है कि राजनीति में आने के पहले छगन भुजबल मुंबई के भायखला सब्जी मंडी में अपनी मां के साथ सब्जी और फल बेचा करते थे।

लालू के कबाब मंत्री
आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव लगातार केंद्र सरकार पर कालेधन को लेकर हमला करते रहते हैं। हाल ही में कालेधन को लेकर उनके करीबी पूर्व मंत्री अनवर अहमद के घर आयकर विभाग का छापा पड़ा। अनवर की गिनती लालू यादव के चंद खास लोगों में होती है। एक समय में इन्हें कबाब मंत्री के नाम से जाना जाता था। छापेमारी के दौरान बड़े स्तर पर ‘मनी लॉड्रिंग’ से जुड़े तथ्य सामने आये। उनके घर से 10 लाख के नए नोट मिले और करोड़ों रुपए की गड़बड़ी करने का मामला भी सामने आया।

करंसी बदलने में फंसे बीएसपी जिलाध्यक्ष
नोटबंदी के दौरान एक टीवी चैनल के स्टिंग में 10 करोड़ रुपए के पुराने नोटों को 40 फीसदी कमीशन पर बदलने के लिए तैयार दिखे बीएसपी के जिलाध्यक्ष वीरेंद्र जाटव। स्टिंग में जाटव अपने पार्टी कार्यालय में बैठे हैं और 40 प्रतिशत कमीशन लेने की बात कर रहे हैं।

सपा भी गोरखधंधे में शामिल
टीवी चैनल के स्टिंग में नोएडा से समाजवादी पार्टी के नेता टीटू यादव भी नोट बदलने के लिए 40 प्रतिशत कमीशन मांगते दिखे। यादव ने गुप्त कैमरे के सामने कहा कि आप पुराने नोट की जगह नए नोट पा सकते हैं। इसके लिए आपको 40 प्रतिशत कमीशन देना होगा।

एनसीपी भी पीछे नहीं
एनसीपी नेता रवि कुमार भी पुराने नोट बदलने को तैयार दिखे। उन्होंने कहा कि इन रुपयों को चुनाव के दौरान एक फर्जी प्रमोशन कंपनी को भुगतान किया हुआ दिखाया जाएगा।

जेडीयू भी तैयार
जेडीयू के दिल्ली उपाध्यक्ष सतीश सैनी भी न्यूज चैनल के स्टिंग में कैमरे के सामने 30 से 40 प्रतिशत कमीशन मांगते नजर आए।

सत्येंद्र जैन को नोटिस
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के करीबी सत्येंद्र जैन भी इनकम टैक्स के रडार पर हैं। केजरीवाल के विश्वासपात्र माने जाने वाले स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन अब हवाला कनेक्शन में फंसते नजर आ रहे हैं। जानकारी मिली है कि इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के पास सत्येंद्र के खिलाफ हवाला कारोबियों से संबंधों के सबूत है। जैन और उनकी पत्नी के मालिकाना हक वाली चार कंपनियों ने 2010 से 2016 के बीच 56 कागजी कंपनियों के जरिए गैरकानूनी ढंग से 16.39 करोड़ रुपए दूसरी जगह ट्रांसफर किए। जैन हवाला कारोबारियों के माध्यम से तकरीबन 17 करोड़ रुपए की उलटफेर के मामले में भी आयकर विभाग की नजरों में हैं।

देशभर में छापेमारी के कुछ बड़े आंकड़ें, एक नजर में –
पी राम मोहन राव- तमिलनाडु सरकार के मुख्य सचिव पी राम मोहन राव के घर, दफ्तर से 30 लाख रुपए के नए नोट मिले। पांच किलो सोना मिला और 5 करोड़ रुपए से अधिक अघोषित आय का पता चला है।

पारसमल लोढा- कोलकाता का व्यापारी पारसमल लोढा मुंबई एयरपोर्ट से धरा गया। उसे विदेश भागने की कोशिश करते समय गिरफ्तार किया गया। ईडी के पूछताछ में उसने बताया कि वह 30 प्रतिशत कमीशन पर नोट बदलता था।

शेखर रेड्डी- चेन्नई में व्यवसायी शेखर रेड्डी, जिसे बालू माफिया के नाम से जाना जाता है। उसके ठिकाने से आयकर विभाग को 130 करोड़ नकद और 177 किलो सोना मिला। नकदी में 34 करोड़ के नए नोट थे।

श्रीनिवास रेड्डी- चेन्नई में मनी एक्सचेंज रैकेट का भंडाफोड़ कर 90 करोड़ रुपए जब्त किया है। इसमें 70 करोड़ रुपए नए नोट हैं। इसके लिए श्रीनिवास रेड्डी व प्रेम से आयकर विभाग पूछताछ कर रही है।

अर्जुन कुमार हिरानी- तमिलनाडु के सोकारपेट में आयकर विभाग के अधिकारियों ने एक व्यापारी अर्जुन कुमार हिरानी के आवास और कार्यालय पर छापे मारकर छह किलो सोना और 10 करोड़ रुपए के पुराने नोट जब्त किए।

बेंगलुरु में दो सरकारी इंजीनियरों से पांच करोड़ रुपए जब्त किए। इसमें चार करोड़ रुपए 2000 वाले नोट थे। आरोपियों के पास से सोना और जेवरात भी बरामद किया गया है।

रोहित टंडन- ग्रेटर कैलाश, दिल्ली स्थित टी एंड टी नाम के लॉ फर्म से 13 करोड़ 65 लाख रुपए बरामद मिले। इसमें ढाई करोड़ रुपए नए नोट बरामद हुए। इसके कर्ताधर्ता रोहित टंडन को गिरफ्तार किया जा चुका है।

टेलर- चंडीगढ़ में प्रवर्तन निदेशालय ने एक टेलर (दर्जी) के पास से छापेमारी के दौरान तकरीबन 31 लाख रुपए नकद और 2.5 किलो सोना बरामद किया है। जब्त की गई राशि में 18 लाख रुपए के नए नोट शामिल हैं।

भजिया वाला- सूरत से एक भजिया वाला को पकड़ा गया। उसके पास से 400 करोड़ रुपए की संपत्ति का खुलासा हुआ। विभाग उसके बारे में और जानकारी जुटा रहा है।

सुशील वासवानी- बैरागढ़, मध्य प्रदेश भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील वासवानी के आवास पर छापेमारी में तीन मकान मिले जिसकी कीमत 20 करोड़ आंकी गई। वासवानी कई होटल और शोरूम के मालिक भी हैं।

विक्रम कुमार झा– नवादा, बिहार के जिला सहकारिता अधिकारी विक्रम कुमार झा के घर नवादा, पटना और पूर्णिया में विजिलेंस टीम ने छापा मारा। टीम को झा के ससुराल पूर्णिया से करीब 1.25 करोड़ रुपए कैश बरामद हुए। इनके अलावा, झा के दो मकान का भी पता चला। विजिलेंस टीम का कहना है कि इतनी भारी रकम किसी लोकसेवक के घर से पहली बार उन्हें मिला है।

ओम प्रकाश मांझी- पटना में अधीक्षण अभियंता ओम प्रकाश मांझी के एक साथ कई घरों पर छापेमारी की। निगरानी विभाग के अधिकारी ने मांझी पर आय से अधिक संपति का मामला दर्ज किया है। ढाई लाख रुपए की नकदी, सोना और करोड़ों रुपए की संपत्ति का पता चला है।

अन्य
जयपुर, राजस्थान में दो व्यवसायियों के पास से छापेमारी में 35 लाख रुपए की कीमत के नए नोट बरामद हुए थे। दोनों व्यवसायी नोट बदलने का काम करते थे।

गुवाहाटी, असम में सीआईडी ने एक व्यवसायी के घर से 1.5 करोड़ रुपए मूल्य के 2,000 और 500 रुपए के नए नोट बरामद किए हैं।

मुंबई पुलिस ने चेकिंग के दौरान एक कार से एक करोड़ 40 लाख की रकम बरामद की। बरामद किये गए एक करोड़ 40 लाख रुपए की रकम 2000 के नये नोटों के रूप में मिली है।

LEAVE A REPLY