Home समाचार डिजिटल इंडिया से मिली कुली के सपनों को नई उड़ान, पास की...

डिजिटल इंडिया से मिली कुली के सपनों को नई उड़ान, पास की सिविल सर्विसेज की परीक्षा

210
SHARE
सौजन्य

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में शुरू डिजिटल इंडिया ने आम लोगों की जिंदगी बदल कर रख दी है। डिजिटल इंडिया के तहत देश भर में शुरू फ्री वाई-फाई इंटरनेट की सेवा ने लाखों लोगों के ख्वाब को नए पंख दिए हैं। फ्री वाई-फाई की मदद से पढ़ाई कर केरल के एक कुली ने सिविल सर्विसेज की परीक्षा पास कर ली है। एर्नाकुलम जंक्शन पर पिछले पांच साल से कुली का काम करने वाले श्रीनाथ ने केरल पब्लिक सर्विस कमीशन की परीक्षा पास कर ली है। सबसे बड़ी बात तो यह कि उन्होंने यह पढ़ाई किसी किताब से नहीं, बल्कि रेलवे स्टेशन के वाई-फाई की मदद से की है। श्रीनाथ अब अगर इंटरव्यू क्लीयर कर लेते हैं तो वे लैंड रेवेन्यू डिपार्टमेंट में बतौर विलेज फील्ड असिस्टेंट नियुक्त किए जाएंगे।

काम से साथ पढ़ाई भी
मीडिया में आई खबर के मुताबिक, श्रीनाथ इसके पहले भी तीन बार परीक्षा दे चुके हैं, लेकिन इस बार उन्होंने पहली बार स्टेशन के फ्री वाई-फाई का उपयोग अपनी पढ़ाई के लिए किया। उन्होंने बताया कि अपनी कुलीगिरी के दौरान ही अपने मोबाइल फोन पर पढ़ने की सामग्री, शिक्षकों के लेक्चर इत्यादि को चालू कर बस ईयरफोन को अपने कान में लगा लेते। यहां तक कि वह इस दौरान अपने शिक्षकों से बातचीत भी कर लेते और अपनी शंकाएं भी दूर कर लेते। फिर क्या, चलते-फिरते, लोगों का सामान इधर से उधर ढोते वक्त ही वह अपनी पढ़ाई पूरी कर लेते। इसके बाद जब रात को समय मिलता तो पढ़ाई को दोहरा लेते थे।

सौजन्य

डिजिटल इंडिया के तहत 2016 से रेलवे स्टेशनों पर वाई-फाई
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार ने साल 2016 में डिजिटल इंडिया के तहत रेलवे स्टेशनों पर वाई-फाई की सुविधा शुरू की थी। इस सुविधा को फ्री रखा गया है, जिसे स्टेशनों पर कोई भी इस्तेमाल कर सकता है। एर्णाकुलम स्टेशन पर भी सन 2016 में फ्री वाई-फाई की सेवा शुरू की गई थी।

वाई-फाई ने खोले अवसरों के नए द्वार
श्रीनाथ का कहना है कि स्टेशन पर उपलब्ध फ्री वाई-फाई सेवा ने उनके लिए अवसरों के नए द्वार खोल दिए। पहले उन्होंने इस बारे में सोचा भी नहीं था, लेकिन इससे उन्हें अपने प्रश्नपत्रों को सुलझाने और परीक्षा के ऑनलाइन आवेदन करने में तो मदद मिली ही, साथ ही किताबें खरीदने पर होने वाला खर्च भी बच गया।

LEAVE A REPLY