Home झूठ का पर्दाफाश दो तरह के 500 रु. के नोट पर कांग्रेस के झूठ का...

दो तरह के 500 रु. के नोट पर कांग्रेस के झूठ का मिनटों में पर्दाफाश

301
SHARE

कांग्रेस की गलत नीतियों के चलते आज पार्टी का अस्तित्व संकट में है, ये चिंता पार्टी के भीतर से ही उठ रही है। लेकिन, फिर भी कांग्रेस अपनी चाल और चरित्र बदलने के लिये तैयार नहीं है। उसे लगता है कि वो अभी भी झूठ और नकारात्मक राजनीतिक की बदौलत सत्ता में वापसी कर सकती है। राज्यसभा में एकबार फिर से कांग्रेस के सदस्यों ने जाली कागज के टुकड़ों पर बिना किसी सबूत के RBI पर दो अलग-अलग तरह की 500 रुपये का बैंक नोट छापने की आरोप लगा दिया है। यहां तक की कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने इसे सदी का सबसे बड़ा घोटाला तक बता दिया। लेकिन RBI का पुराना सर्कुलर सामने आते ही कांग्रेस के झूठे दावों का मिनटों में पर्दाफाश हो गया है।

अस्तित्व बचाने के लिये झूठ का इस्तेमाल !
मंगलवार को कांग्रेस ने 500 रुपये के दो अलग-अलग तरह के नोट छापने का आरोप लगाकर राज्यसभा में खूब हंगामा मचाया। सरकार की ओर से साफ कर दिया गया कि ये आरोप सरासर तथ्यविहीन हैं, लेकिन कांग्रेस के सदस्य अपनी हरकतों से बाज आने को तैयार नहीं हुए। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार कांग्रेस सांसद कपिल सिब्बल ने आरोप लगाया कि, “आज हमें पता चला कि सरकार ने नोटबंदी का फैसला क्यों किया था… RBI दो तरह के नोट छाप रहा है, जिनके आकार और डिजाइन अलग-अलग हैं। ” इससे पहले पार्टी प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने एक बहुत बड़े खुलासे का भी दावा किया था। कांग्रेस की इस हरकत को पार्टी के दूसरे नेता जयराम रमेश के बयान से जोड़कर देखा जा सकता है। रमेश ने कहा है कि कांग्रेस अस्तित्व के संकट से गुजर रही है, क्योंकि सल्तनत जाने के बाद भी उसके नेता सुल्तानों जैसा व्यवहार करना नहीं छोड़ रहे हैं।

रिजर्व बैंक के सर्कुलर ने खोली कांग्रेस के झूठ की पोल
दरअसल रिजर्व बैंक ने 8 नवंबर, 2016 को ही दो अलग-अलग सर्कुलर जारी करके साफ कर दिया था कि Inset Letter ‘E’ के साथ और बिना Inset Letter के 500 रुपये के नोट छापे जा रहे हैं। इतना ही नहीं इस सर्कुलर में ये भी साफ कर दिया गया था कि महात्मा गांधी की नई सीरीज वाले पहले से जारी 500 रुपये के सारे नोट वैध माने जायेंगे। बावजूद इसके कांग्रेस ने इसे सदी का सबसे बड़ा घोटाला बता दिया

इस झूठ पर ट्विटर यूजर्स ने कांग्रेस को धो डाला

जैसे ही रिजर्व बैंक का दोनों सर्कुलर सामने आया ट्विटर पर कांग्रेस की ऐसी-तैसी शुरू हो गई। सदी के सबसे बड़े घोटाले पर कांग्रेस के फरेब पर ट्विटर यूजर्स ने क्या कुछ लिखा है आप भी पढ़िए-

 

राज्यसभा में हंगामे का बहाना ढूंढती है कांग्रेस
जब कांग्रेस के नेता अपनी झूठी दलीलों के आधार पर दो तरह के नोट के बहाने हंगामा कर रहे थे। तब सरकार की ओर से केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली बार-बार उनसे गैर-जिम्मेदाराना आरोप लगाने से बाज आने को कह रहे थे, लेकिन लगता है कि कांग्रेस के पास कोई मुद्दा नहीं था, इसीलिये उसने बिना तथ्यों की पड़ताल किये बवाल करना शुरू कर दिया था। वित्त मंत्री ने कहा, “ऐसा कोई प्रावधान नहीं है, जहां आप कोई भी कागज का टुकड़ा लहराकर उसे मुद्दा बना देंगे। देश की मुद्रा के बारे में गैर-जिम्मेदाराना बयान दिये जा रहे हैं। शून्यकाल का दुरुपयोग किया जा रहा है।” लेकिन कांग्रेस अपनी हरकतों से बाज आने को तैयार नहीं हो रही थी।

वैसे यहां पर ये बता देना आवश्यक है कि कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल वही व्यक्ति हैं, जिन्होंने लगभग 1.76 लाख करोड़ के 2जी घोटाले पर संसद में Zero loss की थ्योरी दी थी। मनमोहन सरकार के मंत्री के रूप में कपिल सिब्बल के बयान से कांग्रेस और यूपीए सरकार की तब भी बहुत किरकिरी हुई थी।

LEAVE A REPLY