Home विचार प्रधानमंत्री मोदी के विरुद्ध दुष्प्रचार के लिए ISI की मदद ले रही...

प्रधानमंत्री मोदी के विरुद्ध दुष्प्रचार के लिए ISI की मदद ले रही कांग्रेस!

413
SHARE

किसी भी सूरत में सत्ता पाने की हसरत लिए कांग्रेस पार्टी का ‘डर्टी ट्रिक्स डिपार्टमेंट’ एक्टिव है।  वह लगातार सोशल मीडिया के माध्यम से प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ अभियान चला रहा है। अब इसमें चौंकाने वाला खुलासा हुआ है कि इस दुष्प्रचार अभियान को कांग्रेस पार्टी पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI के साथ मिलकर अंजाम दे रही है। टेलिविजन चैनल टाइम्स नाऊ की रिपोर्ट के अनुसार  भारत में राजनीतिक तनाव पैदा करने और मोदी सरकार के खिलाफ अभियान चलाने वाली लॉबी को इंटर-सर्विसेज इंटेलीजेंस यानि ISI से संबंधित कई ट्विटर प्रोफाइल्‍स से लगतार प्रश्रय और प्रोत्‍साहन मिल रहा है।

कांग्रेस-ISI की मिलीभगत बेनकाब

  • दलित कार्यकर्ताओं ने 20 मार्च को महाड सत्‍याग्रह का आयोजन किया। यह प्रदर्शन सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ था। इसकी पड़ताल की गई तो इसके तार पाकिस्‍तान से जुड़े होने के साक्ष्‍य मिले।
  • दलित प्रोटेस्ट के संदर्भ में ट्विटर पर #IndiaShutDown हैश टैग चलाया गया। इनमें से 86 प्रतिशत ट्वीट पाकिस्तानी ट्विटर हैंडल से किए गए थे।
  • 50 प्रतिशत ट्वीट जो #DalitLivesMatter हैश टैग को प्रमोट कर रहे थे, यह भी पाकिस्तान प्रायोजित एक फर्जी दलित प्रोटेस्ट पाकिस्तानी ट्विटर हैंडल से किए गए थे।

हिंदुओं को अलग-अलग करने की कांग्रेस-पाकिस्तान की साजिश!

पिछले 4 वर्षों में देश में मोदी सरकार को बदनाम करने के लिए कई प्रोटेस्ट हुए। इनमें से एक था रोहित वेमुला मामला। वर्ष 2016 में हैदराबाद विश्वविद्यालय के छात्र रोहित वेमुला ने आत्महत्या कर ली। कांग्रेस समेत तमाम विरोधी दलों ने इस मुद्दे पर जमकर राजनीति की। हालांकि जून, 2018 में खुलासा हुआ कि हिंदुओं को तोड़ने की इस साजिश का सूत्रधार मुस्लिम लीग था। मुस्लिम लीग ने इसके लिए रोहित वेमुला की मां को लाखों रुपये दिए थे ताकि वह मोदी सरकार के खिलाफ बोलें। गौरतलब है कि मुस्लिम लीग केरल में कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ता है और पाकिस्तान परस्त संगठन है।

पीएम मोदी के खिलाफ माओवादियों और कांग्रेस की मिलीभगत

बीते जून महीने में ही पुणे पुलिस ने इस बात का खुलासा किया कि पीएम मोदी को रोकने के लिए उनकी हत्या करने की साजिश रची जा रही है। ये साजिश माओवादियों के कुछ नेता मिलकर कर रहे हैं। पुलिस ने ये भी खुलासा किया कि माओवादियों ने कांग्रेस से धन मिलने की बात कही थी। जाहिर है देशविरोधी तत्वों और प्रधानमंत्री मोदी की हत्या करने की प्लानिंग बनाने वाले माओवादियों के साथ कांग्रेस के कनेक्शन से कई सवाल खड़े हो रहे हैं। बीते दिनों माओवादियों और ISI के कनेक्शन भी सामने आ चुके हैं।

हिंदुओं को टुकड़ों में बांटने के लिए कांग्रेस ने रची साजिश

मार्च, 2018 में खुलासा हुआ कि कांग्रेस ने देश में जातिगत विद्वेष फैलाने के लिए कैंब्रिज एनालिटिका के डेटा की सहायता ली थी। मामले के व्हिसल ब्लोअर और कंपनी के कर्मचारी क्रिस्टोफर विली ने कहा कि 2010 बिहार चुनाव और 2012 यूपी चुनाव में उसने राजनीतिक पार्टियों के कहने पर जाति के आधार पर सर्वे किया था। उन्होंने कहा,  ”कंपनी भारत में बड़े पैमाने पर काम करती थी और कांग्रेस पार्टी इसकी क्लाइंट थी।‘’ आपको बता दें कि कैंब्रिज एनालिटिका वही कंपनी है जो सर्वे में जातिगत आधार पर आंकड़े इकट्ठे करती है और एक समूह को वर्गों में विभाजित कर किसी खास पार्टी के लिए चुनावी जीत की रणनीति बनाती है।  

पीएम मोदी खिलाफ कांग्रेस-पाकिस्तान साथ-साथ

जून, 2018

लश्कर ए तैयबा के प्रवक्ता ने कहा कि हम कांग्रेस पार्टी का समर्थन करते हैं।

17 मई, 2018

राहुल गांधी ने भारतीय न्यायपालिका की तुलना पाकिस्तान की न्यायपालिका से की।

दिसंबर, 2017

मणिशंकर अय्यर ने पाकिस्तानी नेताओं से मिलने के बाद पीएम मोदी को ‘नीच’ कहा।

नवंबर, 2015

मणिशंकर अय्यर पाकिस्तान में कहा कि बीजेपी सरकार हटाइए, हमें ले आइए।

अक्टूबर, 2014

दिग्विजय सिंह ने पाकिस्तानी आतंवादी हाफिज सईद को ‘जी’ और ‘साहब’ कहा।

 

LEAVE A REPLY