Home पोल खोल जज और फैसला मनमाफिक ना हो तो कांग्रेस करने लगती है साजिश

जज और फैसला मनमाफिक ना हो तो कांग्रेस करने लगती है साजिश

720
SHARE

जस्टिस ए के सीकरी को बेवजह विवाद में घसीटकर कांग्रेस ने अपनी उस मानसिकता को उजागर कर दिया है कि वो जज भी अपने माफिक चाहती है और इंसाफ भी। दरअसल जस्टिस सीकरी उस हाई पावर्ड कमेटी में चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के प्रतिनिधि थे जिसमें आलोक वर्मा को सीबीआई डायरेक्टर पद से हटा दिया गया था। आलोक वर्मा के खिलाफ सीवीसी जांच में कई संगीन आरोप सही पाए गए हैं।

जस्टिस सीकरी सुप्रीम कोर्ट में चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के बाद सबसे सीनियर जज हैं। उन्हें साल 2018 में केंद्र सरकार ने सी-सैट यानी कॉमनवेल्थ सचिवालय पंचाट ट्रिब्यूनल का प्रेसिडेंट/मेंबर नामित किया था। लेकिन कांग्रेस और उसके समर्थक मीडिया ने आरोप लगाया कि वर्मा को हटाने के फैसले के लिए ही जस्टिस सीकरी को ये ईनाम दिया गया है।

हालांकि जस्टिस काटजू समेत कई हस्तियों ने कांग्रेस के आरोपों को बकवास बताया लेकिन जस्टिस सीकरी ने खुद ही इस पद के लिये मना कर दिया।

जस्टिस सीकरी के खिलाफ कांग्रेस की साजिश

दिसंबर 2018 में सी-सैट के प्रेसिडेंट/मेंबर के लिए सहमति दी

आलोक वर्मा के खिलाफ सीवीसी की जांच में आई गंभीर शिकायतें

आलोक वर्मा को पीएम, चीफ जस्टिस ने हटाने की सिफारिश की

नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खडगे ने राहुल के इशारे पर किया विरोध

वर्मा को हटाने के फैसले पर राहुल ने किया सीकरी के खिलाफ ट्वीट

सीकरी ने सी-सैट में अपनी नियुक्ति की सिफारिश वापस ली

ये क्या है राहुल? 

जस्टिस दीपक मिश्रा के खिलाफ पीसी करने के लिए जस्टिस गोगोई की तारीफ

चीफ जस्टिस गोगोई के प्रतिनिधि के बतौर आलोक वर्मा को हटाने पर जस्टिस सीकरी की निंदा

कर्नाटक में येदियुरप्पा को विश्वास मत के लिए 48 घंटे देने पर सुप्रीम कोर्ट की तारीफ

राफेल डील को सही ठहराने के लिए सुप्रीम कोर्ट के फैसले की निंदा

राज्यसभा चुनाव में अहमद पटेल के पक्ष में फैसला देने के लिये चुनाव आयोग की तारीफ

छत्तीसगढ़ में दो दौर में वोटिंग कराने के लिए चुनाव आयोग की आलोचना

Leave a Reply