Home नरेंद्र मोदी विशेष देश भर में आयुष्मान भारत की लॉन्चिंग के लिए तैयारियां रफ्तार में,...

देश भर में आयुष्मान भारत की लॉन्चिंग के लिए तैयारियां रफ्तार में, कई राज्यों में पायलट रन शुरू

177
SHARE

जनसामान्य के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की योजनाओं पर अमल को लेकर कैसी तेजी होती है, इसकी बानगी आयुष्मान भारत योजना में भी देखने को मिल रही है। स्वतंत्रता दिवस पर लालकिले के प्राचीर से उन्होंने इस योजना के तहत प्रधानमंत्री जन आरोग्य अभियान को 25 सितंबर से लॉन्च करने का एलान किया था और इसके तीन हफ्ते के भीतर पायलट रन शुरू हो चुका है।

उत्तर प्रदेश में योजना का पायलट उद्घाटन
मंगलवार, 4 सितंबर को उत्तर प्रदेश में प्रधानमंत्री जन आरोग्य अभियान का पायलट रन शुरू हो गया। राज्य के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने बलरामपुर अस्पताल में इसका उद्घाटन छह लाभार्थियों को गोल्डेन कार्ड बांटकर किया। इस योजना से अकेले उत्तर प्रदेश में करीब 1.18 करोड़ परिवारों को यानि लगभग छह करोड़ लोगों को लाभ मिलने वाला है। वहीं देश भर में इस योजना से कुल 10.74 करोड़ परिवारों को लाभ मिलने वाला है। योजना के तहत सूचीबद्ध सरकारी और निजी अस्पतालों में भर्ती होकर उन्हें गंभीर से गंभीर बीमारियों में भी 5 लाख लाख रुपये तक की नि:शुल्क उपचार की सुविधा मिलेगी।

कुल 1350 बीमारियों का इलाज
आयुष्मान भारत योजना के तहत 1350 बीमारियों का इलाज होगा। यह योजना हार्ट अटैक और कैंसर समेत कई गंभीर बीमारियों में राहत दिलाने में बेहद काम आएगी। इलाज के दौरान दवा, मेडिकल जांच (एक्सरे, अल्ट्रासाउंड, एमआरआई समेत कई जांच) पूरी तरह से नि:शुल्क होगी। पहले चरण में समाज के वंचित, पिछड़े, सामाजिक एवं आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के परिवारों को इसका लाभ मिलेगा। योजना के अंतर्गत सामाजिक, आर्थिक एवं जातिगत जनगणना में चिन्हित परिवारों के अलावा स्वत: सम्मिलित श्रेणियों एवं शहरी क्षेत्र की 11 कामगार श्रेणियों के तहत आने वाले लोग जैसे कचरा उठाने वाले और फेरी वालों को इस योजना का लाभ मिलेगा। प्रधानमंत्री जन आरोग्य अभियान के अंतर्गत पात्र परिवार के सभी सदस्य योजना के पात्र होंगे। यानि सदस्यों की संख्या, आयु सीमा जैसी कोई भी बाध्यता नहीं होगी।

सही संचालन के लिए आयुष्मान मित्र
उत्तर प्रदेश सरकार ने इस योजना को सही तरीके से संचालित करने के लिए हर अस्पताल में एक आयुष्मान मित्र नियुक्त करने का निर्णय किया है। ये आयुष्मान मित्र मरीजों को इलाज की सुविधाएं सरकारी और अनुबंधित अस्पतालों में उपलब्ध कराने के लिए जिम्मेदार होंगे। वहीं देश भर में आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना को 25 सितंबर को आरंभ करने के लिए मोदी सरकार आखिरी तैयारियों में जुटी हुई है। लॉन्चिंग की तैयारियों पर प्रधानमंत्री की पूरी नजर है और डेडलाइन को मीट करने के लिए सरकार रात-दिन एक कर चुकी है।

बिहार में 10 लोगों को गोल्डेन कार्ड
बिहार में भी दस लोगों को गोल्डेन कार्ड देकर आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य अभियान का पायलट रन शुरू कर दिया गया है। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने पीएमसीएच में आयोजित कार्यक्रम में लोगों को यह कार्ड प्रदान किया। बिहार में इस योजना के तहत पहले ही आर्थिक व सामाजिक जनगणना के आधार पर एक करोड़ बीस लाख लोग चयनित किए जा चुके हैं। योजना लागू करने के लिए राज्य के 32 सरकारी अस्पतालों को चयनित कर लिया गया है। इसके साथ ही निजी अस्पतालों से भी आवेदन मांगा गया है।   

हरियाणा के करनाल में नवजात बनी पहली लाभार्थी
गौर करने वाली बात ये भी है कि प्रधानमंत्री ने 15 अगस्त को योजना को देश भर में लॉन्च करने की तारीख का ऐलान किया था और उसी दिन हरियाणा के करनाल में इस योजना को पहली लाभार्थी मिल गई। वहां के कल्पना चावला सरकारी अस्पताल में 15 अगस्त को पैदा हुई बच्ची इस योजना की पहली लाभार्थी है। आयुष्मान भारत हरियाणा ने ट्वीट के जरिए इसकी जानकारी दी थी। अस्पताल प्रबंधन के मुताबिक अगर सिस्टम में परिवार का नाम है तो उसके सभी सदस्य लाभार्थी बन जाते हैं और बच्ची का जन्म चूंकि सिजेरियन सेक्शन के माध्यम से हुआ इसलिए वह अपने आप योजना की लाभार्थी बन गई।

LEAVE A REPLY