Home नरेंद्र मोदी विशेष कांग्रेस की वर्गभेदी और गरीब विरोधी मानसिकता को करारा जवाब देगी गुजरात...

कांग्रेस की वर्गभेदी और गरीब विरोधी मानसिकता को करारा जवाब देगी गुजरात की जनता !

164
SHARE

राजनीतिक दलों में विचारों और नीतियों को लेकर मतभेद रहते हैं, पर यह व्यक्तिगत दुराग्रह तक नहीं पहुंचने चाहिए, लेकिन कांग्रेस की संस्‍कृति ही अपने राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों का अपमान करने की रही है। यूथ कांग्रेस द्वारा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर मीम्‍स के जरिये किया गया उपहास इसी की एक कड़ी है।

प्रधानमंत्री पर की गई ये टिप्पणी न केवल कांग्रेस पार्टी बल्कि इसके उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी की मानसिकता को भी दर्शाती है, क्योंकि यूथ कांग्रेस राहुल गांधी की सरपरस्ती में ही काम करती है। दरअसल चुनावों में लगातार हार से परेशान कांग्रेस बौखला गई है और गाली-गलौज पर उतर आई है। उसे एक ‘चायवाले’ का प्रधानमंत्री बन जाना भी अच्छा नहीं लग रहा है। एक ‘गरीब के बेटे’ के हाथों लगातार शिकस्त तो कांग्रेस को कतई बर्दाश्त नहीं हो पा रही है। दरअसल कांग्रेस शुरू से ही गरीब विरोधी और वर्गभेदी मानसिकता से ग्रसित रही है और प्रधानमंत्री मोदी पर की गई इस टिप्पणी से साफ है कि कांग्रेस किसानों, मजदूरों, गरीबों, शोषितों और वंचितों की पार्टी नहीं है।

ऐसा नहीं कि कांग्रेस ने पहली बार प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का अपमान किया है, वह ऐसी अपमानजनक टिप्पणियां पहले भी कई बार कर चुकी है, लेकिन अच्छी बात यह है कि उसे हर बार जनता ने ही जवाब दिया है। आइये हम जानते हैं कि कांग्रेस ने प्रधानमंत्री के विरुद्ध कब और कैसी अपमानजनक टिप्पणी की और उसे क्या खामियाजा भुगतना पड़ा है।

Image result for सोनिया और मोदी

2007- मौत का सौदागर
2007 में गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने नरेन्द्र मोदी को ”मौत का सौदागर’ कहा था। सोनिया गांधी ने नवसारी में चुनावी रैली में कहा था, ”गुजरात की सरकार चलाने वाले झूठे, बेईमान, मौत के सौदागर हैं।” लेकिन चुनावी सभाओं के दौरान मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्वयं को ‘विकास का सौदागर’ कहा और ‘जीतेगा गुजरात’ का नारा देकर गुजराती मान और स्वाभिमान की रक्षा की। सोनिया गांधी की ये टिप्पणी गुजराती समाज को अपने ऊपर आघात लगा और चुनाव में कांग्रेस को करारा जवाब दिया। भाजपा ने इस चुनाव में 182 सीटों वाली गुजरात विधानसभा में 117 सीटें जीतीं, ज‍बकि कांग्रेस 59 सीटें ही हासिल कर सकी।

Image result for मोदी को सोनिया ने मौत का सौदागर

2014-जहर की खेती
2014 में लोकसभा चुनाव के दौरान सोनिया गांधी ने गुजरात के तत्कालीन सीएम नरेन्द्र मोदी पर जहर की खेती करने का आरोप लगाते हुए कहा, ”वे सत्ता की अपनी ‘भूख’ के लिए हिंसा को भड़काने तथा ‘जहर की खेती’ जैसी विभाजनकारी राजनीति में लिप्त हैं।” लेकिन देश की जनता को कांग्रेस के शीर्ष नेताओं की यह जहरबयानी पसंद नहीं आई। 2014 के आम चुनाव में बीजेपी को अकेले 282 सीटें हासिल हुईं, जबकि पिछले 10 साल से देश पर राज कर रही कांग्रेस 44 सीटों तक सिमट गई। पिछले साल राहुल गांधी ने खून की दलाली का बयान दिया था जिसके बाद उत्तर प्रदेश समेत कई राज्य विधानसभा चुनावों में उसे मुंह की खानी पड़ी। 

Image result for मोदी को सोनिया ने जहर की खेती

2014- चाय बेचने वाला
”मोदी प्रधानमंत्री नहीं बन सकते, लेकिन उन्हें कांग्रेस नेशनल काउंसिल मीटिंग में चाय बेचने की नौकरी मिल सकती है।” कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्यर ने इस बयान से नरेन्द्र मोदी को नीचा दिखाने की कोशिश की थी, लेकिन सच तो यह है कि उनके इस बयान से यह पता चलता है कि हमारे प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार ने अपनी किस अथक मेहनत के दम पर यह रुतबा हासिल किया है। मणिशंकर अय्यर द्वारा दिया गया यह बयान कांग्रेस को इतना भारी पड़ा कि 30 सालों में केंद्र की सत्ता में पहली बार पूर्ण बहुमत की सरकार आई और कांग्रेस 44 सीटों पर सिमट गई। इतना ही नहीं कांग्रेस के हाथ मुख्य विपक्षी दल का नेता पद भी नहीं आ सका।

Image result for मणिशंकर अय्यर ने पीएम मोदी को चायवाला

2016- खून की दलाली
पिछले वर्ष अक्टूबर में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी के लिए खून की दलाली शब्द का इस्तेमाल किया। किसान यात्रा की समापन रैली में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने सर्जिकल स्ट्राइक के संदर्भ में कहा, ”हमारे जवानों ने जम्मू-कश्मीर में अपना खून दिया है। उन्होंने हिन्दुस्तान के लिए सर्जिकल स्ट्राइक किए हैं। उनके खून के पीछे आप (मोदी) छिपे हैं, उनकी आप दलाली कर रहे हो, ये गलत है।” जाहिर है राहुल गांधी का ये बयान बिल्कुल ही गैर जिम्मेदाराना था और प्रधानमंत्री मोदी के प्रति उनके असम्मान के भाव को भी बताता है। प्रधानमंत्री के इस अपमान से लोगों का गुस्सा फूट पड़ा, फिर तो यूपी चुनाव में जो हुआ वह इतिहास का हिस्सा है। बीजेपी और उसकी सहयोगी पार्टियों ने 403 विधानसभा सीटों में से 325 सीटों पर जीत हासिल की और कांग्रेस महज 7 सीटों पर सिमट गई।

Image result for पीएम मोदी को खून की दलाली

2017- ‘चाय बेच तू’
गुजरात चुनाव प्रचार के बीच यूथ कांग्रेस की ऑनलाइन मैगजीन ने एक मीम के जरिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को ‘तू चाय बेच’ कहकर संबोधित किया। इस ट्वीट में मैगजीन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कसते हुए एक फोटो भी शेयर की है। इसमें पीएम नरेन्द्र मोदी के साथ अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे साथ खड़े नजर आ रहे हैं। इस फोटो में पीएम मोदी पर चाय बेचने को लेकर तंज कसा गया है। जाहिर है कांग्रेस ने अपनी वर्गभेदी और गरीब विरोधी मानसिकता को एक बार फिर सबके सामने ला दिया है… तो क्या इस बार भी कांग्रेस एक बड़ी हार के लिए तैयार है? साफ है कि प्रधानमंत्री मोदी का अपमान गुजरात की जनता बर्दाश्त नहीं करेगी और इस चुनाव में भी कांग्रेस को जरूर करारा जवाब देगी।

LEAVE A REPLY