Home नरेंद्र मोदी विशेष प्रधानमंत्री मोदी के बचपन पर बनी फिल्म ‘चलो जीते हैं’ देखकर भावुक...

प्रधानमंत्री मोदी के बचपन पर बनी फिल्म ‘चलो जीते हैं’ देखकर भावुक हुए अन्ना हजारे

216
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बचपन की घटना पर बनी लघु फिल्म ‘चलो जीते हैं’ को देखकर सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे भावुक हो गए। अन्ना हजारे को ये फिल्म इतनी पसंद आई कि उन्होंने फिल्म के निर्माताओं से अपने गांव में स्कूल के बच्चों के लिए स्क्रीनिंग कराने का वादा भी कर दिया।

रालेगण सिद्धी में हुई फिल्म की स्पेशल स्क्रीनिंग
आपको बता दें कि हाल ही में शॉर्ट फिल्म ‘चलो जीते हैं’ रिलीज हुई, जो कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बचपन की घटना से प्रेरित है। इस फिल्म की एक विशेष स्क्रीनिंग रालेगण सिद्धी गांव में सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे और उनकी टीम के लिए आयोजित की गई थी। फिल्म को देखकर अन्ना हजारे अचानक भावुक हो गए और उनकी आंखें भर आईं। इस फिल्म की कहानी ‘सामाजिक समरता’ किताब से ली गई है। वास्तव में ये किताब नरेंद्र मोदी के विचारशील लेखों का संकलन है। अन्ना हजारे ने फिल्म के निर्माता महावीर जैन, निर्देशक मंगेश और प्रस्तुतकर्ता आनंद एल राय को इस फिल्म के लिये बधाई दी।

गांव के स्कूली बच्चों को फिल्म दिखाएंगे अन्ना हजारे
प्रधानमंत्री मोदी पर बनी इस फिल्म का उद्देश्य बिना किसी स्वार्थ के दया और सेवा भाव का संदेश है। फिल्म में दूसरों के लिए संस्कृति निर्माण की बात कही गई है। अन्ना हजारे को ये फिल्म इतनी पसंद आई कि उन्होंने इस फिल्म के निर्माताओं से अपने गांव में स्कूल के बच्चों के लिए विभिन्न स्क्रीनिंग कराने का वादा किया।

यह कोई पहली बार नहीं है इससे पहले भी कई बार जाने-माने सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे प्रधानमंत्री मोदी की नीतियों और उनकी कार्यशैली के मुरीद हो चुके हैं। डालते हैं एक नजर-

अन्ना हजारे ने की मोदी सरकार के विजन की तारीफ
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व  में सरकार बनने के बाद भी सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने श्री मोदी की तारीफ की थी। मई, 2014 में मोदी सरकार के गठन के बाद अन्ना हजारे ने कहा था कि अब ऐसा लग रहा है कि अच्छे दिन आने वाले हैं। उन्होंने कहा था कि मोदी सरकार ने भविष्य के लिए एक आशाजनक तस्वीर लोगों के सामने रखी है। इससे ऐसा लग रहा है कि सरकार अपने वादों के प्रति गंभीर है। अन्ना हजारे ने प्रधानमंत्री मोदी के उस निर्देश की भी तारीफ की थी, जिसमें उन्होंने अपने मंत्रियों से कहा है कि रिश्तेदारों को पीए न बनाएं। उन्होंने कहा था कि मोदी सरकार द्वारा नीतियों को तैयार करने में लोगों की राय लेने पर विचार करने वाली बात से ऐसा लग रहा है कि उनके पास विजन है। पूर्ण बहुमत वाली मोदी सरकार, खिचड़ी सरकार के मुकाबले व्यापक पैमाने पर देश में विकास के काम करवा सकती है। अन्ना ने मोदी सरकार द्वारा पहली बार कालाधन पर एसआइटी गठन करने के फैसले की भी तारीफ की थी।

अन्ना ने की नोटबंदी के लिए पीएम मोदी की प्रशंसा
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जब भ्रष्टाचार और कालेधन के खात्म के लिए नोटबंदी का ऐतिहासिक फैसला लिया था, तब भी अन्ना हजारे ने उनकी तारीफ की थी। अन्ना हजारे ने 500 रूपये और एक हजार रूपये के नोट को अमान्य किए जाने के निर्णय को साहसिक और क्रांतिकारी कदम बताते हुए पीएम मोदी की प्रशंसा की थी। उन्होंने कहा था कि मोदी सरकार के इस फैसले से कालेधन पर रोक लगेगी। उन्होंने यह भी कहा था कि मोदी सरकार के इस क्रांतिकारी कदम से काला धन, भ्रष्टाचार और आतंकवाद पर लगाम कसेगी।

LEAVE A REPLY