Home समाचार उत्तर प्रदेश का हो रहा तेजी से विकास, पीएम करेंगे 63 हजार...

उत्तर प्रदेश का हो रहा तेजी से विकास, पीएम करेंगे 63 हजार करोड़ की योजनाओं का शिलान्यास व उद्घाटन

127
SHARE

योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनने के बाद उत्तर प्रदेश में विकास कार्यों को पंख लग गए हैं। राज्य सरकार और केंद्र सरकार के बीच राजनीतिक विरोधाभास खत्म हो गया। राज्य और केंद्र दोनों सरकारों के बीच तालमेल अच्छा हुआ। और इसी का परिणाम है कि उत्तर प्रदेश को एक के बाद एक प्रोजेक्ट मिल रहा है। उस पर काम तेजी से हो रहा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एक बार फिर दो दिवसीय दौरे पर उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ पहुंच रहे हैं और यहां अनेक कार्यक्रमों तथा राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी ‘ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी’ में हिस्सा लेंगे।

प्रधानमंत्री मोदी लखनऊ में 63 हजार करोड़ लागत की योजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन करेंगे। ‘प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी)’, ‘अटल मिशन फॉर रीजुवेनेशन ऑफ अरबन ट्रांसफॉर्मेशन (अमृत) और स्मार्ट सिटीज मिशन की तीसरी वर्षगांठ पर आयोजित कार्यक्रमों में भी भाग लेंगे।

21 जुलाई, 2018 – संसद में अविश्वास प्रस्ताव पेश होने के अगले ही दिन शाहजहांपुर में पीएम मोदी ने किसानों की एक रैली को संबोधित किया। और अपने विरोधी दलों और नेताओं को आड़े हाथों लिया।

14 जुलाई, 2018 – आजमगढ़ में पीएम मोदी ने 23 हजार करोड़ रुपए की लागत से 340 किमी लंबे पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे की आधारशिला रखी। वहीं, बनारस में 22 हजार करोड़ रु. के विकास कार्यों का उद्घाटन किया।

10 जुलाई, 2018 – नोएडा में पीएम मोदी ने द. कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन के साथ 5 हजार करोड़ रुपए की लागत से बने सैमसंग के सबसे बड़े मोबाइल प्लांट का उद्घाटन किया। यहां हर साल 12 करोड़ मोबाइल फोन बनेंगे।

27 मई, 2018 – प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उत्तर प्रदेश और हरियाणा को दिल्ली गए बैगर बाहर-बाहर से जोड़ने वाले 6 लेन के ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस वे का उद्घाटन किया था। इस एक्सप्रेस वे को बनाने का मकसद ही यही था कि दिल्ली में बाहर के राज्यों के ट्रकों की आवाजाही बंद हो, जिससे प्रदूषण में कमी आए। उत्तर प्रदेश से हरियाणा को दिल्ली के बाहर ही बाहर जोड़ने वाले इस 135 किमी लंबे एक्सप्रेस वे के आस पास सैकड़ों गांवों में युवाओं के लिए रोजगार के नये अवसर उपलब्ध हुए हैं। इस एक्सप्रेस-वे की आधारशिला प्रधानमंत्री मोदी ने नवंबर 2015 में रखी थी। 910 दिनों में बनाने का लक्ष्य था जिसे 500 दिनों के रिकार्ड समय में पूरा करा लिया गया।

LEAVE A REPLY