Home गुजरात विशेष प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ विरोधियों की बदजुबानी- पढ़िए पूरी कहानी

प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ विरोधियों की बदजुबानी- पढ़िए पूरी कहानी

268
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने परिश्रम से मात्र साढ़े तीन साल के कार्यकाल में वैश्विक स्तर पर भारत की एक सशक्त पहचान बनाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी है। यही कारण है कि देश का नागरिक आज खुद को भारतीय कहे जाने पर गौरवांवित महसूस करता है। तमाम राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय सर्वे इस बात की पुष्टि करते हैं कि वह अबतक के सबसे लोकप्रिय प्रधानमंत्री ही नहीं, मौजूदा समय में सबसे लोकप्रिय ग्लोबल लीडर भी बन चुके हैं। अगर भारत के प्रधानमंत्री के रूप में नरेन्द्र मोदी की प्रतिष्ठा बढ़ती जा रही है तो यह मात्र उनका ही नहीं, 125 करोड़ से अधिक लोगों के देश भारत का भी सम्मान है।

ये भी सच्चाई है कि पीएम मोदी की ख्याति जितनी बढ़ती गई है, उनके मुट्ठीभर विरोधियों की जुबान उतनी ही गंदी होती गई है। चंद निहित स्वार्थी तत्वों की बौखलाहट का अंदाजा तो इससे ही लगाया जा सकता है कि डिक्शनरी में अब अपमान का ऐसा कोई शब्द नहीं बच गया है, जिसे उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लिए इस्तेमाल नहीं किया है। हम यहां सिलसिलेवार दिखाने की कोशिश करेंगे कि सिर्फ विरोध के नाम पर देश के लोकप्रिय प्रधानमंत्री के लिए कैसी-कैसी भाषा का इस्तेमाल किया गया है।

अस्वस्थ मानसिकता के शिकार- आनंद शर्मा
कांग्रेस प्रवक्ता और पूर्व केंद्रीय मंत्री आनंद शर्मा ने सोमवार 27 नवंबर को कहा है, कि “प्रधानमंत्री एक अस्वस्थ मानसिकता से गुजर रहे हैं, जो कि एक राष्ट्रीय मसला है।” दरअसल आनंद शर्मा को यह बात पसंद नहीं आ रही है कि कोई उनकी पार्टी में चार पीढ़ियों से चली आ रही वंशवाद की नीति पर सवाल उठाए।

खाल उधेड़वा लेंगे- लालू का बेटा
आरजेडी नेता लालू यादव के बड़े बेटे और बिहार के पूर्व मंत्री तेज प्रताप यादव की छवि हमेशा से संदिग्ध रही है, लेकिन इस बात की उम्मीद शायद ही किसी ने की हो की वह देश के प्रधानमंत्री के लिए आपराधिक भाषा का इस्तेमाल करेंगे। मोदी सरकार द्वारा पिता की सुरक्षा में हुई कटौती से वह काफी बौखला गए और कहा, “हम लोग कार्यक्रमों में जाते रहते हैं। लालू प्रसाद जी भी इन कार्यक्रमों में जाते रहते हैं। ऐसे में सुरक्षा वापस लेना, उनकी हत्या कराने की साजिश है। हम इसका मुहतोड़ जवाब देंगे, नरेंद्र मोदी जी की खाल उधड़वा देंगे।”

हाथ और गला काटने वाले भी बहुत लोग हैं-राबड़ी देवी
कहते हैं कि बच्चे अपने मां-बाप से ही संस्कार सीखते हैं। तेज प्रताप ने पीएम मोदी के बारे में जिस भाषा का इस्तेमाल किया उसकी शिक्षा उन्हें शायद अपना माता और बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी से ही मिली है। राबड़ी देवी ने पार्टी के एक कार्यक्रम में देश के पीएम को यह कहकर धमकाया कि, “बिहार में नरेंद्र मोदी का हाथ और गला काटने वाले भी बहुत लोग हैं।”

भक्तों को पर्मानेंट %#$ बनाना- मनीष तिवारी

कांग्रेस के एक नेता और पूर्व मंत्री मनीष तिवारी ने पीएम मोदी के बारे जिस गाली का इस्तेमाल किया उसे तो दोहराया भी नहीं जा सकता। उन्होंने ट्वीटर पर लिखा, “इसे कहते हैं चू#$% को भक्त बनाना और भक्तों को पर्मानेंट चू#$% बनाना- जय हो।”

दिग्विजय सिंह ने पीएम मोदी को दी गाली
इससे पहले कांग्रेस के कुख्यात महासचिव और पार्टी उपाध्यक्ष के सियासी गुरु कहे जाने वाले दिग्विजय सिंह ने भी पीएम मोदी के लिए बहुत ही अपमानजनक भाषा का इस्तेमाल किया था। दिग्विजय सिंह ने जो ट्वीट पोस्ट किया है उसमें मोदी की तस्वीर के साथ तीन लाइन लिखी गई थी। इसमें लिखा है, ‘मेरी 2 उपलब्धियां: 1- भक्तों को &$% बनाया, 2- $#$& को भक्त बनाया।

भगवान बुद्धि दे- दिग्विजय सिंह
दिग्विजय सिंह ने जन्मदिन के अवसर पर भी प्रधानमंत्री के खिलाफ घटिया तंज कसने से परहेज नहीं किया। उन्होंने पीएम को जन्मदिन पर शुभकामना तो दी, लेकिन अपनी ओछी हरकत भी दिखा दी। उन्होंने लिखा, “प्रधानमंत्री मोदी जी को उनके जन्मदिन पर मेरी शुभकामनाएं। भगवान उन्हें उनकी गलतियों को स्वीकारने और उसे ठीक करने की बुद्धि दे।”

जवानों के खून के दलाल- राहुल गांधी
कांग्रेस नेताओं ने प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ जिस घिनौनी भाषा का प्रयोग किया है, उसमें पार्टी के उपाध्यक्ष राहुल गांधी भी शामिल हैं। एक समय सेना के सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाने वाले राहुल ने एक सभा में इसको लेकर पीएम पर बहुत ही अमर्यादित टिप्पणी की- “हमारे जवानों ने जम्मू-कश्मीर में अपना खून दिया, जिन्होंने सर्जिकल स्ट्राइक किया, आप उनके खून के पीछे छिपे हुए हो। आप उनकी दलाली कर रहे हो।”

जहर की खेती करते हैं- सोनिया गांधी
आम चुनावों के दौरान राहुल की मां और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने नरेन्द्र मोदी जी का नाम लिए बिना कहा था कि, “मेरा पूरा भरोसा है कि आप ऐसे लोगों को मंजूर नहीं करेंगे जो जहर का बीज बोते हैं।”

मौत का सौदागर- सोनिया गांधी
इससे पहले 2007 के गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान भी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने नरेन्द्र मोदी के खिलाफ एक आपराधिक और घटिया टिप्पणी की थी। सोनिया ने उस समय मोदी जी को ‘मौत का सौदागर कहा’ था। सोनिया की इस हरकत को मतदाताओं ने बहुत गंभीरता से लिया और विधानसभा चुनावों में कांग्रेस को धूल चटा दिया था।

मोस्ट स्टुपिड पीएम- राशिद अल्वी
कांग्रेस के एक और नेता हैं, राशिद अल्वी। इन्होंने बुद्धिजीवियों के बीच में देश के प्रधानमंत्री को “मोस्ट स्टुपिड पीएम” कह दिया। अल्वी ने कहा था, “मोस्ट स्टुपिड पीएम सर्च करने पर उनका नाम आता है।” हालांकि अल्वी को वहां मौजूद लोगों के भारी विरोध का सामना भी करना पड़ गया।

जुमला जयंती पर आनंदित वैशाखनंदन- मृणाल पांडे
राजनीतिक विरोधियों की बौखलाहट को तो कुछ हद तक समझी भी जा सकती है, लेकिन सवाल तब उठता है जब बुद्धिजीवी होने का दंभ भरने वाले लोग भी घटिया हरकत कर बैठते हैं। कुछ निहित स्वार्थी पत्रकार इसी श्रेणी में शामिल हैं। जैसे कांग्रेस की करीबी माने जाने वाली मृणाल पांडे ने प्रधानमंत्री के जन्मदिन पर भी अशोभनीय भाषा लिखकर अपना असली एजेंडा जाहिर कर दिया। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, “जुमला जयंती पर पर आनंदित, पुलकित, रोमांचित वैशाखनंदन।” इससे भी घिनौनी हरकत तो यह रही कि उन्होंने इसके साथ एक गदहे की तस्वीर पोस्ट की।

खून का सौदागर- लालू यादव
कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की लाइन पर जाते हुए उनके सियासी चहेते लालू यादव ने भी एक बार नरेन्द्र मोदी के विरोध में सोनिया की तर्ज पर ही बेहद अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल किया था। लालू ने कहा था, “नरेंद्र मोदी खून का सौदागर है।”

%&$ भाइयों की तरह ताली बजाता है- लालू यादव
लालू यादव के बेटे और पत्नी देश के प्रधानमंत्री को खुलेआम अपराधियों की तरह धमकाते हैं, तो उसकी वजह यही है कि लालू खुद अभद्रता करने के बहुत बड़े उदाहरण रहे हैं। उन्होंने एक चुनावी रैली में पीएम मोदी के लिए कहा- “%&$ भाइयों की तरह ताली बजा बजाके बोलता है”

Coward and Psychopath- अरविंद केजरीवाल
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपनी गंदी जुबान से अबतक राजनीति को जितना नुकसान पहुंचाया है, उससे देश की छवि बहुत खराब हुई है। प्रधानमंत्री मोदी की ईमानदार नीतियों से वह एक बार इतने परेशान हो गए कि उन्होंने कहा, “मोदी कायर और मनोरोगी हैं।”

बेशर्म तानाशाह- अरविंद केजरीवाल
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल देश के बच्चे-बच्चे के लिए बदजुबानी के पर्याय बन चुके हैं। उन्होंने अपनी गंदी जुबान से न सिर्फ राजनीतिक को गंदा किया है, बल्कि मुख्यमंत्री के संवैधानिक पद को भी कलंकित किया है। इसी कड़ी में पंजाब चुनाव के दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को बेशर्म तानाशाह कहकर संबोधित किया था।

आप जालिम हैं- असदुद्दीन ओवैसी
नोटबंदी के फैसले को मुसलमानों के खिलाफ बताते हुए एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने पीएम मोदी के लिए अपमानजनक भाषा का इस्तेमाल किया। उन्होंने कहा, “आप फकीर नहीं हैं, आप तो जालिम हैं।”

यमराज- सतीश चंद्र मिश्रा
प्रधानमंत्री के नोटबंदी के फैसले से बीएसपी और उसके नेतृत्व की बौखलाहट और उसके पीछे की वजहों से पूरा देश परिचित है। शायद यही वजह है कि पार्टी नेता सतीश चंद्र मिश्रा ने नोटबंदी के दौरान जो भी मौतें हुईं उन्हें नोटबंदी से तो जोड़ा ही, बिना सीधा नाम लिए पीएम मोदी को यमराज तक कहने में संकोच नहीं किया।

सबसे बड़ा रावण- आजम खान
समाजवादी पार्टी नेता और यूपी के पूर्व मंत्री आजम खान अपनी दंगी जुबान के लिए ही ज्यादा मशहूर हैं। यही वजह है कि एक बार उन्होंने अपनी खीज मिटाने के लिए बिना नाम लिए प्रधानमंत्री को सबसे बड़ा रावण बता दिया। उन्होंने कहा कि, ”वो 131 करोड़ का बादशाह है, रावण जलाने लखनऊ जाता है लेकिन ये भूल जाता है कि सबसे बड़ा रावण लखनऊ में नहीं दिल्ली में रहता है।”

राक्षसराज रावण- दिग्विजय सिंह
कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह का व्यक्तित्व ही गंदगियों से भरा हुआ है। जब से मध्य प्रदेश की जनता ने उन्हें राज्य की सत्ता से बेदखल किया है, वे अपना संतुलन गंवा बैठे हैं। यही कारण है कि वे कुछ भी बक देते हैं। इसी कड़ी में एक बार उन्होंने नरेन्द्र मोदी की तुलना राक्षसराज रावण से कर दी थी। तब मोदी जी गुजरात के मुख्यमंत्री थे।

तानाशाह गद्दाफी, मुसोलिनी और हिटलर –प्रमोद तिवारी
कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी ने नोटबंदी के विरोध के नाम पर अपने ही देश के प्रधानमंत्री की तुलना दुनिया के कुछ कुख्यात तानाशाहों से कर दी। तिवारी ने कहा,’दुनिया के किसी भी विकसित देश ने आज तक ऐसा फैसला नहीं लिया। जिन लोगों ने ऐसा किया उनमें गद्दाफी, मुसोलिनी और हिटलर हैं। चौथा नाम है नरन्द्र मोदी।’

सांप, बिच्छू और गंदा आदमी-मणिशंकर अय्यर
कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ज्यादातर अपनी खराब जुबान के लिए भी चर्चा में आते हैं। इसी कड़ी में एक बार उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को “सांप, बिच्छू और गंदा बूढ़ा आदमी” कह दिया था।

रावण, पानी पुरुष- मणिशंकर अय्यर
कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर नरन्द्र मोदी के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करके अपनी सुर्खियां बटोरने में माहिर हैं। 2012 के गुजरात विधानसभा चुनावों के दौरान उन्होंने मोदी जी की तुलना असुर राजा रावण से किया था। अय्यर ने ये भी कहा था- “लौहपुरुष क्या….वे तो पानी पुरुष हैं।”

बंदर- सलमान खुर्शीद
तत्कालीन केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद ने 8 जून, 2013 को मोदी जी की बंदर के साथ तुलना की। उन्होंने कहा कि मोदी इस तरह भीड़ को खींचते हैं, जैसे लोग बंदर के करतब देखने जाते हैं।

भस्मासुर- जयराम रमेश
13 जून 2013 को तत्कालीन कैबिनेट मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेसी नेता जयराम रमेश ने गुजरात के तब के सीएम नरेन्द्र मोदी को भस्मासुर कहा।

पागल कुत्ता- बेनी प्रसाद वर्मा
कांग्रेस नेता और तत्कालीन केंद्रीय मंत्री बेनी प्रसाद वर्मा ने 14 जुलाई, 2013 को नरेंद्र मोदी को पागल कुत्ता कहा। उन्होंने कहा,”लोकतंत्र के मंदिर को किसी पागल कुत्ते से प्रदूषित न होने दें।”

गंगू तेली- गुलाम नबी आजाद
कांग्रेसी नेता तत्कालीन केंद्रीय मंत्री गुलाम नबी आजाद ने 17 अगस्त, 2013 को नरेंद्र मोदी को गंगू तेली बताया। उन्होंने कहा था- “राजा भोज और गंगू तेली के बीच तुलना कहां है।”

चूहे के बच्चे की तरह बिल में घुस जाएंगे- कल्याण बनर्जी
तृणमूल कांग्रेस नेता कल्याण बनर्जी ने पीएम मोदी को लेकर बहुत ही अमर्यादित बयान दिया था। उन्होंने कहा था, “मोदी चूहे के बच्चे की तरह गुजरात में अपने बिल में घुस जाएंगे।”

इमाम ने दिया सिर मुंडकर मुंह काला करने का फतवा
कोलकाता के टीपू सुल्तान मस्जिद के शाही इमाम सैयद मोहम्मद नुरूर रहमानी बरकती ने नोटबंदी के फैसले के विरोध में देश के प्रधानमंत्री के खिलाफ बहुत ही अपमानजनक फतवा जारी किया। फतवे के मुताबिक प्रधानमंत्री का सिर मुंडकर उनका मुंह काला करने वाले को 25 लाख रुपये का इनाम देने की बात कही गई। जब इमाम ये गुस्ताखी कर रहा था, वहां पर पश्चिम बंगाल की सत्ताधारी टीएमसी के सांसद मोहम्मद इदरीस भी मौजूद थे।

हम उसके टुकड़े-टुकड़े कर देंगे- इमरान मसूद
उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के एक नेता इमरान मसूद ने आम चुनावों के दौरान मोदी जी के टुकड़े-टुकड़े करने की धमकी दी थी। उसने कहा था, “अगर मोदी ने उत्तर प्रदेश को गुजरात बनाने की कोशिश की तो हम उनके टुकड़े-टुकड़े कर देंगे।”

वायरस- रेणुका चौधरी
कांग्रेस नेता रेणुका चौधरी ने 7 जून, 2013 को नरेन्द्र मोदी को न्यूमोनिया की तरह का वायरस कहा और उसे नमोनिटिस का नाम दिया।

अर्जुन मोढवाडिया ने बंदर से भी तुलना की
2012 में अपने चुनावी रैली में तत्काली गुजरात कांग्रेस प्रमुख अर्जुन मोढवाडिया ने नरेन्द्र मोदी की तुलना बंदर से की थी।

मनीष तिवारी ने दाऊद इब्राहिम से की तुलना
कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने 2010 में नरेन्द्र मोदी की तुलना अंडर वर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम से करने में जरा भी संकोच नहीं किया।

बदतमीज, नालायक, इसके मां-बाप कौन हैं?- रिजवान उस्मानी
कांग्रेस के एक नेता रिजवान उस्मानी ने 2009 के आम चुनावों के दौरान नरेन्द्र मोदी को न सिर्फ बदतमीज और नालायक कहा। बल्कि यह भी पूछा कि इसका बाप कौन है? इसकी मां कौन है?

हिटलर- शंताराम नाइक
गोवा कांग्रेस के नेता शंताराम नाइक ने 7 जून, 2013 में नरेन्द्र मोदी की तुलना हिटलर और तानाशाह पोल पोट से की थी

LEAVE A REPLY