Home समाचार 62 हस्तियों ने पत्र लिख कर मॉब लिंचिंग के नाम पर झूठ...

62 हस्तियों ने पत्र लिख कर मॉब लिंचिंग के नाम पर झूठ फैलाने वाले 49 पूर्वाग्रही लोगों को दिया करारा जवाब

261
SHARE

कला, फिल्म, साहित्य, संगीत, समाजसेवा क्षेत्र से जुडी 62 हस्तियों ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उनकी सरकार के समर्थन में खुला पत्र लिखा है। इन लोगों ने इस पत्र के माध्यम से दो दिन पहले 49 हस्तियों द्वारा मोदी सरकार के विरोध में लिखे गए पत्र को खारिज कर दिया है। इन 62 हस्तियों का कहना है कि महज क्षुद्र राजनीति के कारण कुछ लोग मोदी सरकार के खिलाफ मॉब लिंचिंग के नाम पर झूठ फैला रहे हैं। इस खुले खत को जारी करने वालों में जानेमाने गीतकार प्रसून जोशी, फिल्म अभिनेत्री कंगना रानौत फिल्म निर्देशक मधुर भंडारकर समेत कई प्रख्यात लोगों के नाम शामिल हैं।

आपको बता दें कि फिल्म अभिनेत्री अपर्णा सेन, कोंकणा सेन शर्मा, रामचंद्र गुहा, अनुराग कश्यप, शुभा मुद्गल जैसे अलग-अलग क्षेत्र के दिग्गजों ने बीते दिनों जय श्रीराम के नारे और मॉब लिंचिंग पर पीएम मोदी को पत्र लिखा था। इस पत्र में दलित, मुस्लिम और दूसरे कमजोर तबकों की मॉब लिंचिंग को रोकने के लिए तत्काल कदम उठाने की मांग की गई थी और मोदी सरकार को देश का माहौल खराब करने के लिए जिम्मेदार बताया गया था।

अब गीतकार प्रसून जोशी, फिल्म अभिनेत्री कंगना रानौत, फिल्म निर्देशक मधुर भंडारकर और विवेक अग्निहोत्री, शास्त्रीय नृत्यांगना सोनल मानसिंह, मोहनवीणा वादक पंडित विश्व मोहन भट्ट ने खुला पत्र जारी किया है। इस खुले पत्र की शुरुआत में ही 23 जुलाई को 49 हस्तियों के लिखे गए पत्र को हतप्रभ करने वाला करार दिया गया है। साथ ही आरोप लगाया गया है कि राष्ट्र के स्वघोषित नैतिकतावादी और रखवालों ने पक्षपाती चिंता जाहिर कर राजनीति से प्रेरित पक्ष लिखा है। इस ओपन लैटर में आरोप लगाया गया है कि पहले लिखे पत्र का मकसद लोकतांत्रिक परिपाटी और बतौर राष्ट्रीय सामूहिकता के सिद्धांत को चोट पहुंचाना था। साथ ही कहा गया है कि ये वे लोग हैं जो टुकड़े टुकड़े गैंग पर चुप्पी साधे रहते हैं।

62 हस्तियों के पत्र पर सोशल मीडिया पर लोगों ने जबरदस्त प्रतिक्रिया दी है।

Leave a Reply